Breaking :
||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा

धोनी ने आखिरी ओवर में छीन ली मुंबई इंडियंस से जीत, जडेजा ने माही के छुए पैर

मुंबई के खिलाफ मैच में सीएसके के पूर्व कप्तान एमएस धौनी ने एक बार फिर से साबित किया कि क्यों उन्हें वर्ल्ड का सबसे बेस्ट फिनिशर माना जाता है। उनकी विस्फोटक बल्लेबाजी के सामने मुंबई की एक न चली और लगाातार उसे 7वें मैच में हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ ही मुंबई ऐसी पहली टीम बन गई है जो शुरुआत के 7 मैच हारी हो।

पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई ने खराब शुरुआत के बाद तिलक वर्मा के अर्धशतकीय पारी की बदौलत 155 रन बनाए थे। लक्ष्य का पीछा करते हुए चेन्नई की टीम को आखिरी ओवर में 17 रन चाहिए थे और धौनी ने अपने स्टाइल मैं मैच फिनिश कर चेन्नई को सीजन की दूसरी जीत दिला दी। धौनी ने जयदेव उनादकट के आखिरी ओवर में दो छक्के और एक चौके और 2 रन के साथ 4 गेंदों पर 16 रन बनाए।

मैच खत्म होने के बाद जब धौनी मैदान से बाहर जा रहे थे तो फैंस को एक शानदार नजारा देखने को मिला। टीम के कप्तान रवींद्र जडेजा ने धौनी के पैर छुए।

धौनी ने इस मैच में 13 गेंदों पर 28 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली। ये चेन्नई की सीजन में दूसरी जीत है। इस हार के बाद इस सीजन में मुंबई के प्लेआफ में पहुंचने की संभावना खत्म हो गई है। धौनी ने इस सीजन के पहले मैच में अर्धशतकीय पारी खेल सबको अपने फार्म में आने की दस्तक दे दी थी। इस मैच में उनकी दमदार पारी से टीम के कप्तान खुद को नहीं रोक पाए और उनके पैर छुते हुए नजर आए।

इसे भी पढ़ें :- मंत्री मिथिलेश ठाकुर पर कार्रवाई के निर्देश, जानिए वजह

मैच के बाद टीम के कप्तान रवींद्र जडेजा ने कहा कि “मैच के दौरान उन्हें डर लगा था लेकिन इस मैच का बेस्ट फिनिशर मैदान पर मौजूद था इसलिए मैं जानता था कि जीत का मौका है। यदि आप मैच नहीं जीतते हैं तो शांत रहना जरूरी है हमें अपने फील्डिंग पर काम करना जरूरी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें