Breaking :
||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर
Sunday, February 25, 2024
धार्मिक

हाथों में अधिक रेखाएं हैं तो जानिए क्या है इनका मतलब

कई बार आपने देखा होगा कि हाथों में बहुत कम रेखाएं होती हैं। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार हाथ में जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और हृदय रेखा सबसे प्रमुख होती हैं। कम रेखा का मतलब यह भी हो सकता है कि व्यक्ति के हाथ में तीन मूल रेखाएं ना होकर केवल एक या दो हों। ऐसे में हाथ में तीन और इससे कम होने के अलग-अलग परिणाम हो सकते हैं। यदि व्यक्ति बहुत अधिक सोचता है तो उसके हाथों में रेखाओं की संख्या भी अधिक हो सकती हैं। जो लोग मस्तिष्क से जुड़ा काम नहीं करते अथवा बेहद कम करते हैं तो उनके हाथ में रेखाएं भी कम होती हैं। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार अधिक रेखा का मतलब अधिक चिंता और अधिक चिंता का मतलब अधिक दुखी। ऐसे में अधिक रेखाएं व्यक्ति को परेशानी भी देती हैं। 

यदि हाथ में केवल तीन रेखाएं हैं और तीनों की बनावट ठीक है, पर्वत ठीक है तो ऐसे लोगों का जीवन सरलता से चलता रहेगा। ऐसे लोगों को दूसरे लोगों का सहयोग मिलता रहेगा। ऐसे लोगों के हाथ में सूर्य रेखा नहीं हेाने के बावजूद सरकारी रेखा मिलने की संभावना रहती है। इसके उलट यदि व्यक्ति के हाथ में पर्वत का उभार ठीक ना हो तो ऐसे लोगों को जीवन में संघर्ष बढ़ जाएगा। ऐसे व्यक्ति जितना अधिक सोचेंगे, हाथ में रेखाएं भी उतनी दिखाई देने लगेंगी। कम रेखा होने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि व्यक्ति जीवन में कुछ नहीं करेगा। कम रेखा होने से रेखाओं के दोष होने की संभावना भी कम होती है। ऐसे में यह अच्छा संकेत माना गया है। हालांकि यदि हाथ में रेखाओं की संख्या तीन से कम है तो यह शुभ लक्षण नहीं है। यदि जीवन रेखा नहीं है तो व्यक्ति को संघर्ष झेलना पड़ेगा। यदि मस्तिष्क रेखा नहीं तो वैचारिक स्थिति में संघर्ष करना पड़ता है। मस्तिष्क की सक्रियता हाथ में रेखाओं की संख्या को बढ़ाती है। जो लोग चिंतक प्रवृत्ति के होते हैं उनके हाथ में रेखाएं भी अधिक होती हैं।