Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: इंजेक्शन लगने से महिला की मौत, परिजनों ने अस्पताल में किया हंगामा

मेदिनीनगर : मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शनिवार रात एक मरीज की मौत हो गई। इससे नाराज होकर घरवालों ने हंगामा किया। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर सुभाष कुमार का आरोप है कि उनके साथ बदसलूकी की गई। महिला कर्मचारी को पीटा गया।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

करीब 4 घंटे तक हंगामा चलता रहा। डॉक्टर व स्टाफ अस्पताल से निकलकर शहर थाने में बैठ गए। सूचना मिलने के बाद पुलिस अधिकारी अस्पताल पहुंचे और मामले की जानकारी ली। परिजनों को समझाने का प्रयास किया। 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मामला शांत हुआ। इसके बाद अस्पताल में स्वास्थ्य सेवा बहाल कर दी गई।

हंगामे के कारण 4 घंटे तक किसी मरीज का इलाज नहीं हो सका। जानकारी के अनुसार हंगामा करने वाले लोग नगर थाना क्षेत्र के रेड़मा के रहने वाले थे।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

डॉ सुभाष कुमार ने बताया कि 2 दिन पहले महिला को मेदिनी राय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रात में उसकी हालत नाजुक बनी हुई थी। उन्हें एक इंजेक्शन दिया गया और बेहतर इलाज के लिए रांची रिम्स रेफर कर दिया गया। इसी बीच उसकी मौत हो गई। इससे परिजन नाराज हो गए। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा हुआ। इसी बीच पुलिस एक अज्ञात मरीज को लेकर आई। फौरन डॉक्टरों और कर्मियों को अस्पताल से हटा दिया गया।