Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
पलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: कब्रिस्तान की घेराबंदी के नाम पर राशि की निकासी, उपायुक्त से जांच की मांग

रुपेश कुमार अग्रवाल/लातेहार

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड के चिरू पंचायत के ग्राम बिजरा में एकीकृत आदिवासी विकास अभिकरण एवं कल्याण विभाग द्वारा बिना कब्रिस्तान की घेराबंदी किये निर्माण के लिये राशि की निकासी करने का मामला सामने आया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मामले को लेकर मंगलवार को हेरहंज प्रखंड के कई ग्रामीण उपायुक्त के जनता दरबार पहुंचे। जहां आवेदन देकर ग्रामीणों ने बिना काम हुए राशि की निकासी का आरोप लगाया। ग्रामीणों ने आवेदन में उपायुक्त से इस योजना की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है।

ग्रामीणों का कहना है कि पूर्व में यहां कब्रिस्तान की घेराबंदी कर दी गयी है। फिर से उसी कब्रिस्तान की घेराबंदी के लिए 23 लाख 15 हजार 700 रुपये आवंटित कर कब्रिस्तान की घेराबंदी करायी गयी है। ग्रामीणों का आरोप है कि इस योजना में बिना काम कराये राशि निकाल ली गयी है।

ग्रामीणों ने बताया कि बिजरा गांव के किसी भी खतियान में कब्रिस्तान दर्ज नहीं है, इसके बावजूद यहां से 18 लाख 28 हजार 500 रुपये की निकासी कब्रिस्तान की घेराबंदी के नाम पर की गयी।

उपायुक्त को दिये गये आवेदन पर हेरहंज प्रखंड प्रमुख पार्वती कुमारी, उप मुखिया राकेश लोहरा, वार्ड सदस्य मो जलाल, मो मंसूर, मो इस्माइल, मो इस्राफील, मो ताहिर, मो अब्बास व मो यासीन समेत कई ग्रामीणों के हस्ताक्षर थे।