Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
पलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: बालूमाथ में जंगली हाथियों ने चार घरों को तोड़ा, तीन मवेशियों को पटक कर मार डाला

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में जंगली हाथियों का आतंक रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इस दौरान बुधवार की सुबह करीब 3:00 बजे हाथियों ने बालूमाथ प्रखंड मुख्यालय से सटे बसिया ग्राम अंतर्गत बीसोडारी टोला में जमकर उत्पात मचाया। यहां जंगली हाथियों ने चार घरों को ध्वस्त करते हुए दो पशुओं को पटक कर मार डाला।

ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार जंगली हाथियों ने बीसोडारी टोला में करीब 3 घंटे तक उत्पात मचाया। इस दौरान सिलवंती मसोमात, चंद्र तुरी, रामजीत गंझू और लालमनी मसोमत के घर को पूरी तरह से धवस्त कर दिया। जबकि राजदेव गंझू का एक बैल, विमल गंझू व तेतर गंझू के एक-एक सुकर को पटक कर मार डाला।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जंगली हाथियों के कारण बीसो डारी टोला के ग्रामीणों को करीब पांच लाख रुपये का आर्थिक नुकसान बताया जा रहा है। इस बरसात की मौसम में घर ध्वस्त हो जाने से ग्रामीणों के समक्ष रहने खाने और सोने की समस्या उत्पन्न हो गयी है। जिसे देखते हुए पीड़ित परिवार के लोगों ने वन विभाग के अधिकारियों से तत्काल मुआवजा राशि के साथ-साथ पक्के आवास उपलब्ध कराने और इस क्षेत्र से जंगली हाथियों को भगा कर बेतला वन क्षेत्र में ले जाने की मांग की है।