Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
पलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

लातेहार: पिछले तीन माह से अंधेरे में रहने को विवश हैं मटलौंग गांव के ग्रामीण, जले ट्रांसफार्मर नहीं बदले जाने से ग्रामीणों में आक्रोश, डीसी से हैवी पावर ट्रांसफार्मर लगाने की मांग

Manika Latehar Latest News

लातेहार : जिले के मनिका प्रखंड स्थित मटलौंग गांव के ग्रामीण इन दिनों बिजली की समस्या से परेशान हैं। इस गांव का ट्रांसफार्मर पिछले तीन माह से जला हुआ है। इस कारण ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर हैं। ग्रामीण विभाग का चक्कर लगाते-लगाते थक चुके हैं, लेकिन अब तक किसी ने इस समस्या का समाधान नहीं किया है। विभाग के इस रवैये से ग्रामीणों में आक्रोश है।

दरअसल, मटलौंग (भंडार बीच बस्ती) गांव में फिलहाल 25 केवी का ट्रांसफार्मर लगा हुआ है। इस गांव में करीब 50 परिवार रहते हैं। जबकि गांव की आबादी 300 से ज्यादा है। इससे 25 केवी का ट्रांसफार्मर अत्यधिक लोड के कारण बार-बार जल जा रहा है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ग्रामीणों का कहना है कि अब तक तीन से चार बार ट्रांसफार्मर जल चुका है। इस मामले को लेकर ग्रामीणों ने कई बार विभाग के अधिकारियों से लिखित शिकायत की है, लेकिन ग्रामीणों की बातों को अनसुना कर दिया गया। विभाग की ओर से अब तक इस समस्या का समाधान नहीं किया जा सका है। जिससे ग्रामीणों में विभाग के प्रति आक्रोश है।

ग्रामीण बिपिन बिहारी भारती ने बताया कि गांव के लोग पिछले तीन माह से अंधेरे में जीवन गुजार रहे हैं। गांव में ट्रांसफार्मर लगता है और जल जाता है। गांव की आबादी अधिक है जिसके कारण ट्रांसफार्मर पर लोड अधिक है। इससे ट्रांसफार्मर बार-बार जल जाता है। हमने विभाग के अधिकारियों को इसकी जानकारी दी और 63 केवी ट्रांसफार्मर की मांग की, लेकिन विभाग के अधिकारियों ने अभी तक कोई संज्ञान नहीं लिया है। बार-बार कोरम पूरा कर टाल दिया जाता है।

ग्रामीणों ने बताया कि 20 फरवरी को डीसी गरिमा सिंह के जनता दरबार में आवेदन देकर इसकी शिकायत भी की थी। मौके पर डीसी ने विभाग के एसडीओ को ग्रामीणों की समस्या का समाधान करने का निर्देश दिया। लेकिन डीसी के आदेश के बावजूद एसडीओ ने ग्रामीणों की इस समस्या को लेकर अब तक कोई पहल नहीं की है।

ग्रामीण आनंद प्रसाद ने बताया कि गांव का ट्रांसफार्मर जल गया है, लेकिन बिजली बिल लगातार आ रहा है। कुछ ग्रामीणों को छोड़कर अधिकांश ग्रामीण लगातार बिजली बिल का भुगतान कर रहे हैं। विभाग के कर्मी जब गांव में आते हैं तो ग्रामीणों पर बकाया बिजली बिल वसूलने का दबाव बनाते हैं।

ग्रामीणों ने डीसी गरिमा सिंह से इस समस्या के समाधान के लिए हैवी पावर ट्रांसफार्मर लगाने की मांग की है।

मौके पर बिपिन बिहारी भारती, सुरेश भारती, दुलारी भारती, भोला भारती, सोनु प्रसाद, आनन्द प्रसाद, संतोष भारती, रविन्द्र प्रसाद, भोला साव, प्रमोद प्रसाद, प्रकाश, पंकज भारती, संजय प्रसाद, गोविन्द, संतूलाल, राजेश‌, नीरज, देवाकांत, छोटू, मोहन, अर्जुन, मनू‌, महेश, बजरंगी, पचु, राजेश भारती समेत कई ग्रामीण मौजूद थे।

Manika Latehar Latest News