Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में बोलेरो ने बाइक में पीछे से मारी टक्कर, दो IRB जवान समेत चार घायल, दो रिम्स रेफर, सड़क जाम||पलामू में ट्रक ने झामुमो नेता के रिश्तेदार को रौंदा||झारखंड में बड़ा सड़क हादसा, तीन की मौत, सात घायल||झारखंड में लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 65.40 फीसदी वोटिंग, गिरिडीह और धनबाद में महिलाएं तो रांची और जमशेदपुर में पुरुषों ने मारी बाजी||बड़ी घटना को अंजाम देने आये अमन साहू गिरोह के चार शूटर चढ़े पुलिस के हत्थे||प्रेमी ने शादी का झांसा देकर किया यौन शोषण, धोखा बर्दाश्त नहीं कर पायी प्रेमिका, की जान देने की कोशिश, मामला दर्ज||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला
Monday, May 27, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

उत्क्रमित उच्च विद्यालय झाबर में व्याप्त अनियमितता को लेकर ग्रामीणों ने उपायुक्त को दिया आवेदन, प्रभारी व अध्यक्ष को हटाने की मांग

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड के झाबर पंचायत के एक दर्जन से अधिक ग्रामीण आज उपायुक्त भोर सिंह यादव को आवेदन देकर उत्क्रमित उच्च विद्यालय झाबर में व्याप्त अनियमितताओं के संबंध में ध्यान आकृष्ट कराया है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उपायुक्त को दिये गये आवेदन में ग्रामीणों ने बताया है कि उक्त विद्यालय में बच्चों के नामांकन में बच्चों या अभिभावकों से अवैध वसूली की जा रही है। मध्याह्न भोजन योजना के तहत वास्तविक उपस्थिति से अधिक बच्चों की उपस्थिति दिखाकर वित्तीय अनियमितता की जा रही है। अन्य मामलों में शिक्षकों को फंसाने के लिए सादे कागज पर हस्ताक्षर कराना, इस संबंध में बोलने पर उन्हें हरिजन अधिनियम के तहत फंसाने की धमकी देना शामिल है।

ग्रामीणों ने उपायुक्त से जांच कराकर प्रभारी व प्रबंध समिति के अध्यक्ष के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई कर उक्त प्रभारी व अध्यक्ष को हटाने की मांग की है। जिससे विद्यालय में पठन-पाठन का माहौल बहाल हो सके।

आवेदन में पंचायत मुखिया शीलो देवी, पंचायत समिति सदस्य सुनीता देवी की मोहर व हस्ताक्षर के अलावा ग्रामीणों के हस्ताक्षर अंकित हैं।