Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Friday, June 14, 2024
पलामूपलामू प्रमंडलसतबरवा

दुबियाखाड़ में दो दिवसीय राजकीय आदिवासी विकास महाकुंभ मेले का शुभारंभ

Dubiyakhad Aadiwasi Mahakumbh Mela

सतबरवा : प्रत्येक वर्ष 11-12 फरवरी को सदर प्रखंड के दुबियाखाड़ में आयोजित होने वाले राजकीय आदिवासी महाकुंभ मेले का उद्घाटन रविवार को पूर्व मंत्री मिथिलेश ठाकुर, मनिका विधायक रामचन्द्र सिंह, पलामू के उपायुक्त डॉ. शशि रंजन एवं चेरो जनजातीय परिषद के अध्यक्ष हरेराम सिंह चेरो ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। इससे पूर्व अतिथियों ने मेदिनी चौक स्थित महाराजा मेदिनीराय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

मौके पर संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि पिछली किसी भी सरकार ने आदिवासियों की भावनाओं को नहीं समझा। पलामू के महापुरुष महाराजा मेदिनीराय की स्मृति में लगने वाले इस मेले को हमने राजकीय मेले का दर्जा दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एक निर्दोष आदिवासी के बेटे को झूठे मामले में फंसाकर जेल में डाल दिया है। झारखंड की सारी जमीन आदिवासियों की है। आदिवासियों को समझना चाहिए कि उनका हितैषी कौन है। मेदिनीनगर के शिवाजी मैदान में जल्द ही महाराजा मेदिनीराय की प्रतिमा स्थापित की जायेगी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मनिका विधायक रामचन्द्र सिंह ने कहा कि इस मेले को राजकीय मेला का दर्जा देने के लिए आदिवासी समाज पूर्व मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का सदैव आभारी रहेगा।

मेले में हजारों लोगों ने हिस्सा लिया, वहीं दूर-दूर से आये कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। मेले में कई जोड़ों का सामूहिक विवाह भी आयोजित किया गया, जिसमें मिथिलेश ठाकुर ने कन्यादान किया और नवविवाहित वर-वधू को उपहार और आशीर्वाद भी दिया।

आपको बता दें कि इस मेले की शुरुआत 1991 में झारखंड के पहले विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी के सहयोग से की गयी थी, तब से हर साल इस मेले का आयोजन किया जाता है।

मौके पर पलामू विकास आयुक्त, प्रशिक्षु आईएएस रवि कुमार, अध्यक्ष अर्जुन सिंह, हृदय सिंह, जिला परिषद अध्यक्ष, अवधेश सिंह चेरो सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Dubiyakhad Aadiwasi Mahakumbh Mela