Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: दुबियाखाड़ में 11 और 12 फरवरी को आदिवासी महाकुंभ मेला, तैयारी शुरू

पलामू : पलामू के दुबियाखाड़ में चेरो वंश के महान राजा मेदिनीराय की स्मृति में 11 व 12 फरवरी को आदिवासी महाकुंभ मेला आयोजित होगा। पलामू जिला परिषद एवं आयोजन समिति के तत्वावधान में आयोजित इस मेले को हाल ही में राजकीय मेले का दर्जा दिया गया है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

महाकुंभ मेला आयोजन समिति ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को आमंत्रित किया है। मेले की तैयारी भी शुरू हो गयी है। मेले के दौरान लाखों की परिसंपत्तियों का वितरण भी होता है। साथ ही लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ भी दिया जाता है। मेला स्थल पर राजा मेदिनीराय की प्रतिमा भी स्थापित है।

आयोजन समिति के अनुसार बिहार के तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव ने 32 साल पहले इस मेले की शुरुआत की थी। राजा मेदिनीराय का शासन काल अत्यंत समृद्धशाली रहा है। राजा मेदिनीराय ने 1658 से 1674 तक पलामू के क्षेत्र पर शासन किया था। राजा मेदिनीराय का साम्राज्य दक्षिणी गया, हजारीबाग और सरगुजा तक फैला हुआ था। उनके कार्यकाल में किसी के घर में खाने-पीने की समस्या नहीं हुई।

दुबियाखाड़ आदिवासी महाकुंभ मेला