Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: दुबियाखाड़ में 11 और 12 फरवरी को आदिवासी महाकुंभ मेला, तैयारी शुरू

पलामू : पलामू के दुबियाखाड़ में चेरो वंश के महान राजा मेदिनीराय की स्मृति में 11 व 12 फरवरी को आदिवासी महाकुंभ मेला आयोजित होगा। पलामू जिला परिषद एवं आयोजन समिति के तत्वावधान में आयोजित इस मेले को हाल ही में राजकीय मेले का दर्जा दिया गया है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

महाकुंभ मेला आयोजन समिति ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को आमंत्रित किया है। मेले की तैयारी भी शुरू हो गयी है। मेले के दौरान लाखों की परिसंपत्तियों का वितरण भी होता है। साथ ही लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ भी दिया जाता है। मेला स्थल पर राजा मेदिनीराय की प्रतिमा भी स्थापित है।

आयोजन समिति के अनुसार बिहार के तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव ने 32 साल पहले इस मेले की शुरुआत की थी। राजा मेदिनीराय का शासन काल अत्यंत समृद्धशाली रहा है। राजा मेदिनीराय ने 1658 से 1674 तक पलामू के क्षेत्र पर शासन किया था। राजा मेदिनीराय का साम्राज्य दक्षिणी गया, हजारीबाग और सरगुजा तक फैला हुआ था। उनके कार्यकाल में किसी के घर में खाने-पीने की समस्या नहीं हुई।

दुबियाखाड़ आदिवासी महाकुंभ मेला