Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: दहेज के लिए की थी पत्नी की हत्या, कोर्ट ने सुनायी 10 वर्ष सश्रम कारावास की सजा

पलामू : पलामू जिला व्यवहार न्यायालय के पंचम जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश अभिमन्यु कुमार की अदालत ने दहेज हत्यारा पति मुकेश कुमार यादव को 10 वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनायी है। वहीं पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने पर छह माह अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।

इस मामले में लेस्लीगंज थाना क्षेत्र के बनुवा निवासी तेतर यादव ने लेस्लीगंज थाना में मुकेश कुमार यादव, पटन यादव, बसंती देवी व रीना कुमारी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी थी। जिसे लेस्लीगंज थाना कांड संख्या 9/2019 में 20 जनवरी 2019 को भारतीय दंड विधान की धारा 304बी/34,302/34,201/34 के तहत दर्ज किया गया था।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मृतका के पति मुकेश कुमार यादव, ससुर पटन यादव, सास बसंती देवी के खिलाफ कोर्ट में मुकदमा चल रहा था। इसमें सास-ससुर को निर्दोष पाये जाने पर रिहा कर दिया गया है। वहीं साक्ष्य के आधार पर मुकेश कुमार यादव को दोषी पाते हुए 10 वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनायी गयी। वहीं पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने पर छह माह अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।

इस मामले में मुकेश कुमार यादव पर आरोप था कि उसकी शादी 2017 में अंजू देवी से हुई थी। शादी के बाद अंजू देवी अपने ससुराल गयी जहां उसके पति मुकेश कुमार यादव, ससुर पटन यादव और सास बसंती देवी ने दहेज के रूप में मोटरसाइकिल की मांग की। मांग पूरी न होने पर वे उसके साथ मारपीट करते थे। जिसको लेकर गांव में पंचायत भी हुई थी। जिसमें उसके पति मुकेश कुमार यादव ने पंच के सामने स्वीकार किया था कि अंजू देवी को ठीक से रखेगा और उससे कोई मांग नहीं करेगा। अंजू देवी को 10, 15 दिनों तक ठीक से रखा और फिर से उसके साथ मारपीट शुरू कर दी।

वर्ष 2018 में अंजू देवी के मायके में बेटी का जन्म हुआ। जिसके बाद मुकेश कुमार यादव उसे मायके से अपने घर ले लाने गया तो मायके में कहा कि अगर गाड़ी नहीं मिलेगी तो अंजू देवी को मारपीट कर फेंक दिया जायेगा। दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर अंजू देवी की हत्या कर दी गयी और शव को छुपा दिया गया। जांच में उसकी हत्या गला घोंटकर दम घुटने से हुई थी। कोर्ट ने मुकेश कुमार यादव को दोषी पाते हुए सजा सुनायी है।