Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू किला पर राज करने वाले राजा मेदिनीराय को किया तर्पण, चेरो आदिवासी मिलन समारोह में उमड़ी भीड़

शिल्पा/सतबरवा

पलामू किला मेला परिसर सतबरवा के रबदा गांव के फुलवरिया स्थित औरगा नदी के तट पर राजा मेदनी राय और उनके वंशजो का सामूहिक तर्पण रविवार को किया गया। तर्पण कार्य के पश्चात अतिथियों तथा अन्य चेरो समुदाय के वंशजों ने मेला स्थल में स्थित राजा मेदनी राय के आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर नमन किया।

मेला परिसर में आदिवासी चेरो मिलन समारोह के मुख्य अतिथि मनिका विधायक रामचंद्र सिंह, दूद्धी (उप्र) के पूर्व विधायक, बीडीओ अरुण सिंह चेरो, थानाप्रभारी अमित कुमार सोनी एवं मेदनी युवा मंच अध्यक्ष अवधेश सिंह चेरो ने बारी-बारी से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। पलामू किला मेला अध्यक्ष विश्वनाथ सिंह चेरो ने अपने सहयोगी के साथ राजा के वंशजो का तर्पण किया। साथ में अनिल सिंह चेरो, प्रदीप सिंह, मनोज सिंह, बालदेव सिंह मौजूद थे। सभी ने अपने पूर्वजों को याद कर तर्पण किया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, बिहार के अलावे बंगाल आदि राज्यों से बड़ी संख्या में चेरो आदिवासी समुदाय के लोग पहुंचे थे। अध्यक्षता अवधेश सिंह चेरो ने जबकि संचालन विधायक प्रतिनिधि हृदयानंद सिंह चेरो ने की। पूर्व सीओ युगेश्वर सिंह, शिक्षक भरदूल सिंह, जिप बासो देवी, अर्जुन सिंह, प्रोफेसर डॉ मीना सिंह, डॉक्टर कविता, मनोज सिंह, डॉक्टर रविंद्र सिंह, पांकी विधायक के सतबरवा प्रखंड विधायक प्रतिनिधि राजेंद्र सिंह चेरो, मनिका निवासी प्रधान सहायक कपिल देव सिंह, गुड्डू सिंह, उपाध्यक्ष अभय सिंह, चर्चित मूर्तिकार यमुना सिंह, आयोजन समिति अध्यक्ष उमेश सिंह चेरो समेत कई लोगों ने पलामू किला पर राज्य करने वाले राजा खासकर मेदिनी राय के द्वारा किए गये कार्यों पर प्रकाश डाला।

कहा कि उनके कार्यकाल में घर-घर में लोग खुशहाल थे। एक दूसरे से प्रेम भाव तथा सामाजिक सद्भाव के साथ राजा सबों के घर जाकर प्रजा की सुध लेते थे। वहीं युवा मंच ने पलामू किला मेला छठ के पारन के सुबह तथा दुबियाखांड मेला 11 फरवरी के दिन सरकारी छुट्टी घोषित करने को लेकर मनिका विधायक रामचंद्र सिंह को एक ज्ञापन सौंपा। विधायक ने राज्य सरकार के पास प्रस्ताव रखने का आश्वासन दिया।

राजा मेदिनी राय के समय सभी खुशहाल थे: मनिका विधायक

मुख्य अतिथि मनिका विधायक रामचंद्र सिंह ने कहा कि राजा मेदिनी राय व्यक्ति नहीं विचार थे। उनके कार्यकाल के दौरान प्रजा तथा हरेक लोग खुशहाल रहा करते थे। हमें ऐसे जगह का जनप्रतिनिधि बनने का मौका मिला है, जहां पर वन विभाग का क्षेत्र पड़ता है। उन्होंने कहा कि हम अपनी समाज के अलावे सभी लोगों का काम करवाने पर विश्वास रखते हैं। आज जरूरत है सभी को मिलजुल कर साथ चलने की। उन्होंने कहा कि 2017 से हमने प्रयास कर राजा मेदिनी राय और उनके वंशजों का तर्पण कार्यक्रम की शुरुआत की। जल्द ही पलामू किला के दिन बहुरने वाले हैं। इसके लिए एक बार पहले हमारा प्रयास से पुरातत्व विभाग से कुछ काम हो चुका है। फिर राज्य सरकार के माध्यम से काम कराने की पहल करने के लिए कहा गया है।

राजा से हमारी पहचान है: पूर्व विधायक

अतिथि हरेराम सिंह चेरो ने कहा कि राजा के नाम से हमारी पहचान बनी है। हमने पलामू किला पर राज्य करने वाले तमाम राजा का नमन करते हैं। जिन्होंने पूरे देश में ख्याति प्राप्त की। अंग्रेजों तथा मुगलों से लड़ाई हमारे पूर्वजों ने लडी। आज हमारी पहचान राजाओं के बदौलत बनी है। हमें गर्व है कि हम सब चेरो आदिवासी राजा के वंशज है। उन्होंने राज्य सरकार से आग्रह किया कि हमारी ऐतिहासिक धरोहर पलामू किला तथा उससे जुड़े हुए सभी धरोहरों को अविलंब फिर से विशेष मरम्मत का कार्य करें ताकि राजा के इतिहास को लोगों के बीच बताया जा सके।

Palamu Satbarwa Latest News