Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार में 30 चयनित युवाओं के बीच मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने बांटे नियुक्ति पत्र, कहा- युवाओं को रोजगार से जोड़ना सरकार की प्राथमिकता

लातेहार में कौशल उत्सव एवं मेगा प्लेसमेंट ड्राइव का आयोजन

लातेहार: झारखंड कौशल विकास मिशन सोसाइटी के तत्वावधान में आज मंत्री सत्यानंद भोक्ता की उपस्थिति में पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर भवन में एक दिवसीय कौशल उत्सव एवं मेगा प्लेसमेंट ड्राइव का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में सबसे पहले उपायुक्त ने मंत्री सत्यानंद भोक्ता को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। कार्यक्रम की शुरुआत मंत्री सत्यानंद भोक्ता, मनिका विधायक रामचन्द्र सिंह व अन्य अतिथियों ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि राज्य के सभी युवक-युवतियों को रोजगार से जोड़ना सरकार की प्राथमिकता है, जिसके लिए सरकार युवक-युवतियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए कई योजनाएं चला रही है। इसके अलावा श्रम रोजगार प्रशिक्षण एवं कौशल विकास विभाग युवक-युवतियों को प्रशिक्षण देकर रोजगार से जोड़ रहा है और उन्हें प्रवासी बनने से रोक रहा है। सरकार प्रदेश के विभिन्न जिलों में रोजगार मेलों का आयोजन कर युवक-युवतियों को उनके जिलों में नियुक्ति पत्र उपलब्ध करा रही है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होने आगे कहा कि राज्य के युवाओं को रोजगार देने के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन संवेदनशील हैं। झारखंड के एक लाख युवक युवतियों को प्रशिक्षण देकर रोजगार से जोड़ा जा रहा है। कौशल विकास मिशन सोसाइटी के तहत एक लाख युवाओं को कौशल प्रशिक्षण देने का लक्ष्य तय किया गया है। श्रम मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के द्वारा युवक युवतियों को निजी क्षेत्र में रोजगार दिलाने का काम किया जा रहा है। मोराबादी राँची में आयोजित रोजगार मेला में मुख्यमंत्री के द्वारा 11000 युवक-युवतियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के द्वारा चाईबासा में आयोजित रोजगार मेला में 10200 युवक-युवतियों को एवं हज़ारीबाग में आयोजित रोजगार मेला में 11850 युवक- युवतियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि पलामू प्रमंडल में भी रोजगार मेला का आयोजन किया जायेगा।

इसके अलावे उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार के द्वारा बेरोजगार युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए मुख्यमंत्री सारथी योजना की शुरुआत की गयी है। इस योजना में सरकार युवाओं को अपने विकल्प के अनुसार कई ट्रेड में निशुल्क प्रशिक्षण देती है। ट्रेनिंग के बाद इस संस्थान से उन्हें निजी व सरकारी कंपनियों में रोजगार दिया जाता है। मुख्यमंत्री सारथी योजना के तहत राज्य सरकार तीन योजनाओं का संचालन कर रही है। इनमें झारखंड कौशल विकास योजना, दीनदयाल उपाध्याय कौशल केंद्र और बिरसा योजना शामिल है। लातेहार जिला में भी तीन केंद्र सक्षम झारखंड कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षण देने का कार्य किया जा रहा है। साथ ही जिले के दो प्रखंड गारू एवं बालूमाथ में दो केंद्र बिरसा योजना के अंतर्गत टेलर, होम हेल्थ केयर, प्लंबिंग आदि का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इच्छुक युवक युवती अपनी इच्छा अनुसार प्रशिक्षण ले सकते है।

इन तीनों योजनाओं से जुड़ने पर गैर आवासीय प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षणार्थियों को घर से प्रशिक्षण केंद्र जाने तक आने-जाने के लिए सरकार के द्वारा प्रतिमाह 1,000 रुपये की राशि दी जाती है। साथ ही, प्रशिक्षण के बाद प्रमाणित सफल प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाणीकरण के तीन महीने के अंदर नौकरी नहीं मिलने पर युवकों को 1,000 रुपये प्रतिमाह और युवती/दिव्यांगों को 1,500 रुपये प्रतिमाह अधिकतम एक वर्ष के लिए प्रदान की जाती है।

प्रशिक्षण के लिए इच्छुक युवक, युवतियों की उम्र 18 से 35 वर्ष के बीच होना अनिवार्य है। वहीं, बिरसा योजना के तहत आरक्षित श्रेणी में प्रशिक्षणार्थियों की अधिकतम आयु सीमा 50 वर्ष भी निर्धारित किया गया है, जिसमें इच्छुक लाभार्थियों की शैक्षणिक योग्यता के अनुसार प्रशिक्षण दिया जाता है। जिसका लाभ आप सभी उठाए।

श्रम मंत्री ने श्रम विभाग के द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दिया। उन्होंने बताया कि भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में निबंधित श्रमिकों का ईएसआईसी हॉस्पिटल राँची में निशुल्क ईलाज किया जाता है। किसी अन्य राज्य के अस्पताल में रेफर किये जाने की स्थिति में ईलाज के सारे खर्च का वहन श्रम विभाग के द्वारा किया जाता है। निबंधित श्रमिक को 60 वर्ष की उम्र के बाद 1000 रुपए प्रतिमाह पेंशन दिया जाता है।  निबंधित श्रमिक के बच्चों को छात्रवृति भी दी जाती है। निबंधित श्रमिक के बच्चों को स्कूल जाने के लिए साइकिल क्रय करने हेतु 5000 रूपये की सहायता राशि प्रदान की जाती है। निबंधित श्रमिक की बेटी की शादी के लिए 30000 रूपये की सहायता राशि भी प्रदान की जाती है।

आगे उन्होंने प्रवासी श्रमिकों के लिए संचालित योजना के बारे जानकारी देते हुये बताया कि निबंधित प्रवासी श्रमिक की प्राकृतिक आपदा या दुर्घटना से मृत्यु होने पर उसके परिजनों को 200000 रुपये की सहायता राशि प्रदान की जाती है। दुर्घटना में अंग की क्षति होने की स्थिति में 1 से 2 लाख रूपये तक की सहायता राशि प्रदान की जाती है। सरकार द्वारा श्रम विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत जरूरतमंद को लाभान्वित करने का कार्य किया जा रहा है।

कार्यक्रम में श्रम मंत्री द्वारा 30 चयनित युवाओं के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण किया गया। इसके आलावे लाभुको के बीच साड़ी, शर्ट-पैंट का वितरण किया गया। इस दौरान स्किल बुकलेट का विमोचन किया गया।

इस दौरान विभिन्न कौशल एजेन्सी द्वारा स्टॉल लगाया गया।

कार्यक्रम में विधायक मनिका रामचंद्र सिंह, उपायुक्त हिमांशु मोहन, जिला परिषद अध्यक्ष पूनम देवी, जिला परिषद उपाध्यक्ष अनीता देवी, सांसद प्रतिनिधि श्याम बाबू, जिला परिषद सदस्य, अनुमंडल पदाधिकारी लातेहार शेखर कुमार, श्रम अधीक्षक सह जिला कौशल पदाधिकारी लक्ष्मी कुमारी, जिला नियोजन पदाधिकारी संतोष कुमार समेत कई लोग उपस्थित थे।