Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

मनिका में मूलभूत सुविधाओं की मांग को लेकर बीडीओ का घेराव, जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

आवास के अभाव में आदिम जनजाति परहिया स्कूल में रहने को विवश

लातेहार : एक तरफ जहां सरकार विलुप्त आदिमजनजाति परिवारों के लोगों के लिए कई तरह के कल्याणकारी योजनाएं चला रही है। वहीं प्रशासनिक संवेदनहीनता के कारण मनिका प्रखंड के दूंदु पंचायत के बिचलीदाग गांव और बिसुनबांध पंचायत टेंगरा पत्थर गांव के आदिम जनजाति परहिया आवास, पानी, बिजली और सड़क की मांग को लेकर बीडीओ को घेरने को मजबूर है। दर्जनों की संख्या में आदिम जनजाति परहिया परिवार शुक्रवार को बीडीओ बीरेंद्र किंडो के कार्यालय पहुंचकर घेराव किया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बिचलीदाग गांव के छोटू परहिया परहिया ,रीता परहिन, ललिता परहिन, सोनी परहिन, उपेंद्र परहिया, मनिता परहीन, सोनू परहिया, लक्ष्मी परहिन, फागू परहिया समेत कई लोगों ने बताया कि हमलोगो को पीने के पानी की कोई व्यवस्था नहीं है। हमलोग टूटे फूटे कुंए से पानी पीने को विवश हैं। आज तक चापाकल भी नहीं लगा है। गांव में जाने के लिए सड़क नहीं है।

वहीं लोगों ने बताया कि आज तक हमलोगों को बिजली भी नहीं मिल पाई है। ग्रामीणों ने कहा कि सरकार से मिलने वाली सुविधाओं से भी हमलोगों को वंचित रखा जाता है। ग्रामीणों ने बीडीओ से आवास से वंचित लोगों के लिए बिरसा आवास, गांव में सड़क, बिजली और पेयजल की सुविधा अविलंब उपलब्ध कराने की मांग की है।

सबसे अहम खबर है कि टेंगरा पत्थर गांव निवासी राजमोहन परहिया घर के अभाव में अपने बाल बच्चों के साथ प्राथमिक विद्यालय टेंगरा पत्थर में रहने को विवश है। राजमोहन की पत्नी प्रमिला परहीन ने बताया कि हमलोग घर के लिए बार पदाधिकारी से मिले परंतु आज तक आवास नहीं मिला। उसने बताया कि हमलोग अपने घर के अभाव में लाचारी में चार बच्चों के साथ स्कूल भवन में रह रहे हैं।

क्या कहते हैं बीडीओ

उक्त संबंध में बीडीओ बीरेंद्र किंडो ने कहा कि मामले में जांचकर सभी आदिम जनजाति परिवारों को सरकारी सुविधा से आच्छादित किया जायेगा। वहीं उन्होंने कहा कि पेयजल, बिजली और सड़क की सुविधा के लिए वरीय अधिकारियों से बात कर आगे की कार्रवाई की जायेगी।