Breaking :
||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना||KIDZEE लातेहार के बच्चों ने मतदाताओं से की अपील- पहले मतदान, फिर कोई काम||पलामू में शौच के लिए निकली नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म, चार आरोपी गिरफ्तार||लातेहार अनुमंडल क्षेत्र में चुनाव के मद्देनजर चार जून तक धारा 144 लागू
Sunday, May 19, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: कलश यात्रा के साथ कल से शुरू हो जायेगा श्रीरामचरित मानस नवाह्न परायण पाठ महायज्ञ का स्वर्ण जयंती समारोह

लातेहार : श्रीरामचरित मानस नवाह्न पारायण पाठ महायज्ञ का 50वां अधिवेशन 14 अक्टूबर से कलश यात्रा के साथ शुरू होगा। यह जानकारी यज्ञ महासमिति के मीडिया प्रवक्ता चंद्रप्रकाश उपाध्याय ने दी है। उन्होंने बताया कि महायज्ञ का 50वां अधिवेशन स्वर्ण जयंती समारोह के रूप में मनाया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि 14 अक्टूबर को कलश यात्रा सुबह सात बजे महायज्ञ परिसर से निकलेगी। यह कलश यात्रा शहर भ्रमण के बाद चटनाही स्थित औरंगा नदी घाट पहुंचेगी। यहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ कलशों में जल भरा जायेगा। इसके बाद कलश यात्रा पुन: मंदिर परिसर पहुंचेगी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने बताया कि शारदीय नवरात्र की पहली तिथि को कलश स्थापित कर पूजा शुरू की जायेगी। नवमी तिथि तक प्रतिदिन सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक श्री रामचरित मानस का पाठ किया जायेगा। शाम 6:30 से 8 बजे तक आरती व कीर्तन का आयोजन होगा। रात 8.30 बजे से मथुरा की वन धार्मिक रामलीला मंडली द्वारा रामलीला का मंचन किया जायेगा।

24 अक्टूबर को दशमी तिथि पर पूर्णाहुति, हवन, महाप्रसाद का वितरण एवं प्रतिमाओं का विसर्जन किया जायेगा। उन्होंने इन सभी कार्यक्रमों में परिवार सहित शामिल होकर पुण्य के भागी बनने की अपील की है। आपको बता दें कि इस वर्ष श्री रामचरित मानस नवाह्न पारायण पाठ महायज्ञ स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। महायज्ञ समिति ने स्वर्ण जयंती समारोह धूमधाम से मनाने का निर्णय लिया है और इसकी तैयारी अंतिम चरण में है।