Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: लोकतंत्र बचाओ यात्रा समाप्त, वक्ताओं ने मोदी सरकार पर जमकर साधा निशाना

लातेहार : 21 फरवरी 2024 से चतरा संसदीय क्षेत्र के लातेहार जिले से शुरू हुई तीन दिवसीय लोकतंत्र बचाओ यात्रा लातेहार जिले के सभी प्रखंडों में घूमते हुए आज बालूमाथ से चंदवा तक लातेहार कल्याण विभाग परिसर में एक आम सभा के साथ समाप्त हुई।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सभा में वक्ताओं ने कहा कि दस सालों में लातेहार समेत पूरे राज्य के आदिवासी-मूलवासियों एवं उनके जल, जंगल, ज़मीन और खनिज पर विशेष हमले हुए हैं। 2020 में मोदी सरकार ने कोयला के अपार संपत्ति को व्यावसायिक खनन के लिए खोल दिया। जिसके अंतर्गत लातेहार समेत झारखंड के 20 ब्लॉक की नीलामी होनी है। कई बिक चूके हैं। देश को कोयले की जितनी जरूरत है उससे कई गुना अधिक खनन कर आदिवासी मूलवासियों को विस्थापित कर कॉरपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाने की योजना है। साथ ही, जंगल बैंक बनाकर जंगलों को कॉरपोरेट को देने की तैयारी है। अगर मोदी सरकार ही केंद्र में रही, तो लातेहार उजड़ जायेगा। हाल में कॉल ब्लॉक के आवंटन में मोदी सरकार के भ्रष्टाचार का भी खुलासा हुआ है।

वक्ताओं ने कहा कि ग्रामीणों ने पिछले 10 सालों में हुई महंगाई और बेरोजगारी की समस्या को साझा किया। गावों में मेहनत से पढ़े-लिखे युवा नौकरी के इंतजार में बैठे हैं। वक्ताओं ने कहा मोदी सरकार ने साल में 2 करोड़ नौकरी देने का वादा किया था। लेकिन जनता के साथ धोखा किया गया। अग्निवीर योजना लागू कर भारतीय सेना की लम्बी नौकरी को खतम कर 4 साल की संविदा आधारित व्यवस्था लागू की गयी। रेलवे सहित हर सरकारी और गैर-सरकारी क्षेत्र में नौकरी व्यवस्था खत्म कर अल्पकालिक ठेका बहाली लायी जा रही है। लोगों ने कहा कि मोदी सरकार एक तरफ गरीबों के अधिकारों जैसे मनरेगा, पेंशन, आंगनवाड़ी सेवा, मातृत्व भत्ता आदि को खतम कर रही और केवल झूठ का प्रचार करती है। मोदी सरकार पूंजीपतियों का अरबों लोन माफ करते रहती है लेकिन किसानों और मेहनतकश लोगों को कर्ज में डूबा से रही है। ग्रामीण मजदूरों के वास्तविक मजदूरी दर में 10 सालों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। मजदूरों को 12 घंटे काम करवाने का दरवाजा खोल दी है सरकार।

लातेहार के विभिन्न गांवों में लोगों ने यह भी कहा कि पिछले 10 सालों में गांव-समाज में धर्म के नाम पर तनाव व झगड़ा बढ़ा है। वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार के संरक्षण में आरएसएस व भाजपा द्वारा आदिवासियों को धर्म के नाम पर बांटने की कोशिश की जा रही है। इससे आदिवासी एकता कमज़ोर होगी और उनके संसाधनों को आसानी से लूटा जा सकता है। जब से केंद्र में भाजपा सरकार आयी है, तब से झारखंड समेत पूरे देश में धर्म के नाम पर आदिवासियों, दलितों व मुसलमानों पर हिंसा बढ़ी और सामाजिक तानाबाना छिन्न भिन्न हो गया है।

तीन दिवसीय लोकतंत्र बचाओ यात्रा ने आव्हान दिया है कि 2024 लोकसभा चुनाव भाजपा-मोदी बनाम जनता है। इस बार जनता अपने जीवन, अपने अधिकारों और झारखंड, देश व लोकतंत्र को बचाने के लिए मोदी सरकार को उखाड़ फेंकेगी। इसी नारे के साथ यात्रा समाप्त हुई। लोकतंत्र बचाओ 2024 अभियान, जो राज्य के अनेक जन संगठनों का 2024 लोकसभा चुनाव के लिए साझा अभियान है, राज्य के सभी लोकसभा क्षेत्रों में अभियान चला रही है।

आज की यात्रा में जितेंद्र सिंह खेरवार, जॉर्ज मोनीपल्ली, हरी कुमार भगत, मंथन, नारायण भगत, रविशंकर जाटव, रामेश्वर उरांव, सेलेस्टिन कुजूर, सिराज दत्ता, सुरेंद्र उरांव, तुलेश्वर उरांव, टॉम कावला समेत कई लोगों ने भाग लिया और अपनी बात रखी।