Breaking :
||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति

लातेहार: SC छात्र की इलाज के दौरान मौत, दोषियों पर कार्रवाई व मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम

राम कुमार/लातेहार

लातेहार : सदर थाना क्षेत्र के पांडेयपुरा ग्राम निवासी सुरेश राम के 11 वर्षीय पुत्र विकास कुमार की रांची रिम्स में इलाज के दौरान हुई मौत के बाद उसके परिजन और भीम आर्मी के सदस्यों ने शव के साथ समाहरणालय के समीप एनएच-75 जाम कर दिया। जामकर्ता दोषियों की गिरफ्तारी व मुआवजे की मांग कर रहे थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इधर, जाम की सूचना पर एसडीपीओ संतोष कुमार मिश्रा, बीडीओ मेघनाथ उरांव, सीओ रूद्र प्रताप, पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता मौके पर पहुंचे। उन्होंने जामकर्ताओं व परिजनों से वार्ता की। करीब दो घंटे के बाद सड़क जाम हटा लिया गया।

एसडीओ शेखर कुमार ने बताया कि मृतक के परिजनों को सरकारी प्रावधान के मुताबिक मुआवजा एवं दोषियों की गिरफ्तारी के आश्वासन के बाद जाम हटा लिया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार उच्च विद्यालय पांडेयपूरा में पढ़ाई के दौरान उसके ही गांव के संतु प्रसाद के पुत्र अविनाश कुमार ने पत्थर से मार कर उसे घायल कर दिया था। जिससे उसके सर में अंदरूनी चोटें आयी थीं। जिसका इलाज रांची के रिम्स में चल रहा था जहां बुधवार को उसकी मौत हो गयी।

मामले को लेकर 27 अगस्त को विकास के पिता सुरेश राम ने दोषियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर सदर थाने में आवेदन दिया था। जिसमें बताया गया था कि 29 जून को विद्यालय में पढ़ने के दौरान उसके बेटे को गांव के ही सन्तु प्रसाद के पुत्र अविनाश कुमार ने पत्थर से मार दिया था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इस घटना में उसके बेटे का सिर फट गया था और वह बेहोश हो गया था। इसकी जानकारी स्कूल के छात्रों ने परिजनों को दी। जिसके बाद उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। प्राथमिक इलाज कर चिकित्सकों ने उसे रिम्स रेफर कर दिया था। जहां दो महीने तक इलाज चलने के बाद उसकी मौत हो गई।

आवेदन में विकास के पिता ने स्कूल के प्रधानाध्यापक आशीष प्रसाद सिन्हां व दोषी छात्र पर जाति सूचक भाषा का प्रयोग कर अपमानित करने का आरोप लगाया था। घटना के बाद ना तो दोषी छात्र के परिजन और ना ही विद्यालय के प्रधानाध्यापक ने घायल छात्र की सहायता की थी।