Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

नाम और मोबाइल नंबर नहीं बताने पर मनचलों ने युवती को ट्रेन से दिया धक्का

लातेहार : डाल्टनगंज से इंटरसिटी एक्सप्रेस पर सवार हुई युवती को कुछ मनचले लड़कों ने टोरी-लोहरदगा रेलखंड के पतराटोली के समीप नाम और फोन नंबर नहीं बताने पर ट्रेन से धक्का दे दिया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गयी। घायल युवती को ग्रामीणों की मदद से चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ नंद कुमार पांडेय ने बताया कि युवती के सर व चेहरे पर गंभीर चोटें आईं हैं। प्राथमिक उपचार के बाद घटना की सूचना आरपीएफ व परिजनों को दे दी गई है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

युवती की पहचान 17 साल की खुशी कुमारी के रूप में हुई है। युवती कुंड मोहल्ला डाल्टनगंज की रहने वाली बताई जा रही है।

बताया जाता है कि टोरी-लोहरदगा रेलखंड के पतराटोली के समीप कुछ ग्रामीणों ने एक युवती को बेहोशी की हालत में देखा। जिसके बाद ग्रामीणों ने उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया।

घायल युवती ने बताया कि डाल्टनगंज से पलामू एक्सप्रेस पकड़कर वह टोरी स्टेशन पहुंची थी। रांची अपनी बहन के यहां जाने के लिए टोरी स्टेशन से इंटरसिटी एक्सप्रेस में सवार हुई।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्रेन के स्टेशन से छूटने के बाद मुझे मिचली आने लगी। जिससे मैं गेट के पास बेसिन की तरफ जा रही थी। जहां दो-तीन लड़के पहले से खड़े थे। मुझे देखने के बाद उन लोगों ने मेरा नाम और मोबाइल नंबर पूछना शुरू कर दिया। जब मैंने मना किया तो उन्होंने मुझे ट्रेन से बाहर धक्का दे दिया। जिससे मैं गिर कर बेहोश हो गयी। जब मेरी आंख खुली तो मैं अस्पताल में थी।