Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Saturday, June 15, 2024
पलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

मनिका: परहिया टोला के आदिम जनजाति परिवार नदी का दूषित पानी पीने को विवश, चापाकल और जल मीनार बना हाथी का दांत

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

दो किमी दूर नदी से पानी लाकर बुझाते हैं प्यास

लातेहार : सरकार एक तरफ नल जल योजना के तहत हर घर में पीने का पानी पहुंचाने का काम कर रही है वहीं मनिका प्रखंड के कोपे पंचायत के सेमरी गांव के परहिया टोला आदिम जनजाति के लोग आज भी नदी का पानी पीने को विवश हैं। गांव के लोग दो किलोमीटर दूर नदी से पानी लाकर पीते हैं। इस गांव की आदिम जनजाति के लोग आज भी पानी की सुविधा से पूरी तरह महरूम हैं इस गांव में आदिम जनजाति के करीब 10 घर हैं जिनमें करीब 50 लोग रहते हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ग्रामीण सविता देवी, नामधारी परहिया, सुरेंद्र परिया ने बताया कि वे दो किलोमीटर दूर जाकर नदी का पानी पीते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि यहां एक हैंडपंप भी था, वह भी कई माह से खराब पड़ा हुआ है। ग्रामीणों ने बताया कि एक जल मीनार भी लगायी गयी है। लेकिन वह कामयाब नहीं हो सका। कई बार इस संबंध में स्थानीय जनप्रतिनिधियों से भी गुहार लगा चुके हैं। लेकिन किसी ने नहीं सुनी। सबसे अहम खबर यह है कि उस गांव की आदिम जनजाति के लोगों का दर्द सुनने वाला कोई नहीं है।

क्या कहते हैं बीडीओ

इस संबंध में बीडीओ बीरेंद्र किंडो ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में आया है। पेयजल विभाग को अवगत कराया जाएगा और बहुत जल्द पानी की व्यवस्था कर दी जायेगी।

क्या कहना है पीएचईडी के जेई का

पीएचईडी के जेई सतीश कुमार ने कहा कि मुझे जानकारी नहीं थी। कल उस गांव में जाकर पीने के पानी की व्यवस्था के लिए चापाकल ठीक करवाऊंगा।