Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

लातेहार: बारियातू में ग्यारह एकड़ में लगी अफीम की खेती को पुलिस ने किया नष्ट

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बारियातू थाना क्षेत्र के बालूभांग में ग्यारह एकड़ में फैली अफीम की खेती को पुलिस ने नष्ट कर दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

थाना प्रभारी मुकेश चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि बालूभांग के वन क्षेत्र में अफीम की खेती की गुप्त सूचना मिली थी। गुप्त सूचना के आधार पर टीम गठित कर बालूभांग के विभिन्न वन क्षेत्रों में छापेमारी अभियान चलाया गया।

इस दौरान ट्रैक्टर की मदद से ग्यारह एकड़ से अधिक में लगी अफीम की खेती को नष्ट कर दिया गया। साथ ही अफीम की खेती करने वालों की पहचान की जा रही है। चिन्हित करने के बाद एफआईआर दर्ज की जायेगी।

इस अभियान में सीआरपीएफ11 के सहायक अधिकारी विशांत कुमार के नेतृत्व में कई जवानों के सहयोग से कोबघमारी, इंदुआ, डाकादिरी सहित अन्य स्थानों पर जहरीली अफीम की खेती को नष्ट करने में प्रमुख भूमिका निभाई।

थाना प्रभारी मुकेश चौधरी ने कहा कि नक्सलियों, अफीम तस्करों व अफीम की खेती करने वालों पर नकेल कसना मेरी प्राथमिकता रहेगी। वहीं बरियातू थाना क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों और अफीम की खेती करने वालों की खैर नहीं होगी। अफीम की खेती को बढ़ावा देने और करवाने वाले जल्द ही सलाखों के पीछे होंगे।

मालूम हो कि समतल जगह में ट्रैक्टर से एक एकड़ अफीम की खेती को पूरी तरह नष्ट करने में कम से कम एक से डेढ़ घंटे का समय लग जाता है। करीब ग्यारह एकड़ जमीन में लगी अफीम पोस्ता की फसल को पूरी तरह नष्ट करना पुलिस का सराहनीय कदम है।