Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
पलामू प्रमंडलबरियातू न्यूज़लातेहार

लातेहार: बारियातू में ग्यारह एकड़ में लगी अफीम की खेती को पुलिस ने किया नष्ट

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बारियातू थाना क्षेत्र के बालूभांग में ग्यारह एकड़ में फैली अफीम की खेती को पुलिस ने नष्ट कर दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

थाना प्रभारी मुकेश चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि बालूभांग के वन क्षेत्र में अफीम की खेती की गुप्त सूचना मिली थी। गुप्त सूचना के आधार पर टीम गठित कर बालूभांग के विभिन्न वन क्षेत्रों में छापेमारी अभियान चलाया गया।

इस दौरान ट्रैक्टर की मदद से ग्यारह एकड़ से अधिक में लगी अफीम की खेती को नष्ट कर दिया गया। साथ ही अफीम की खेती करने वालों की पहचान की जा रही है। चिन्हित करने के बाद एफआईआर दर्ज की जायेगी।

इस अभियान में सीआरपीएफ11 के सहायक अधिकारी विशांत कुमार के नेतृत्व में कई जवानों के सहयोग से कोबघमारी, इंदुआ, डाकादिरी सहित अन्य स्थानों पर जहरीली अफीम की खेती को नष्ट करने में प्रमुख भूमिका निभाई।

थाना प्रभारी मुकेश चौधरी ने कहा कि नक्सलियों, अफीम तस्करों व अफीम की खेती करने वालों पर नकेल कसना मेरी प्राथमिकता रहेगी। वहीं बरियातू थाना क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों और अफीम की खेती करने वालों की खैर नहीं होगी। अफीम की खेती को बढ़ावा देने और करवाने वाले जल्द ही सलाखों के पीछे होंगे।

मालूम हो कि समतल जगह में ट्रैक्टर से एक एकड़ अफीम की खेती को पूरी तरह नष्ट करने में कम से कम एक से डेढ़ घंटे का समय लग जाता है। करीब ग्यारह एकड़ जमीन में लगी अफीम पोस्ता की फसल को पूरी तरह नष्ट करना पुलिस का सराहनीय कदम है।