Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: एक अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल चले जायेंगे पीडीएस डीलर, जानें वजह

पलामू : अपनी विभिन्न मांगों के समर्थन में पलामू समेत पूरे देश के जनवितरण प्रणाली के दुकानदार एक अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे। हड़ताल को व्यापक बनाने के लिए कई स्तरों पर तैयारी चल रही है। इसी कड़ी में सोमवार को मेदिनीनगर के रांची रोड स्थित एक मैरिज हॉल में फेयर प्राइस शॉप डीलर्स एसोसिएशन झारखंड के आह्वान पर जिले के सभी प्रखंड के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष की बैठक हुई। बैठक में हड़ताल को लेकर सहमति व्यक्त की गयी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बैठक में मुख्य रूप से प्रदेश उपाध्यक्ष रविन्द्र पांडे एवं महासचिव पारसनाथ सिंह उपस्थित थे। अध्यक्षता ब्रजकिशोर तिवारी ने की। बैठक के दौरान प्रखंडों के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष को हड़ताल को असरदार बनाने के लिए निर्देशित किया गया। कहा गया कि तीनों पदाधिकारी प्रखंडों में जनवितरण प्रणाली के विक्रेताओं के साथ बैठक करेंगे और सभी से एक अगस्त से ई-पॉश मशीन को बंद रखने का आग्रह करेंगे। जबतक कोई निर्णय प्रदेश स्तर से नहीं लिया जाता तब तक सारे पीडीएस डीलर हड़ताल पर रहेंगे।

मांगों में 13-14 माह से बकाया कमीशन देने, मानदेय की स्वीकृति और कमीशन में वृद्धि सहित 10 सूत्री मांग शामिल हैं।