Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: एक अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल चले जायेंगे पीडीएस डीलर, जानें वजह

पलामू : अपनी विभिन्न मांगों के समर्थन में पलामू समेत पूरे देश के जनवितरण प्रणाली के दुकानदार एक अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे। हड़ताल को व्यापक बनाने के लिए कई स्तरों पर तैयारी चल रही है। इसी कड़ी में सोमवार को मेदिनीनगर के रांची रोड स्थित एक मैरिज हॉल में फेयर प्राइस शॉप डीलर्स एसोसिएशन झारखंड के आह्वान पर जिले के सभी प्रखंड के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष की बैठक हुई। बैठक में हड़ताल को लेकर सहमति व्यक्त की गयी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बैठक में मुख्य रूप से प्रदेश उपाध्यक्ष रविन्द्र पांडे एवं महासचिव पारसनाथ सिंह उपस्थित थे। अध्यक्षता ब्रजकिशोर तिवारी ने की। बैठक के दौरान प्रखंडों के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष को हड़ताल को असरदार बनाने के लिए निर्देशित किया गया। कहा गया कि तीनों पदाधिकारी प्रखंडों में जनवितरण प्रणाली के विक्रेताओं के साथ बैठक करेंगे और सभी से एक अगस्त से ई-पॉश मशीन को बंद रखने का आग्रह करेंगे। जबतक कोई निर्णय प्रदेश स्तर से नहीं लिया जाता तब तक सारे पीडीएस डीलर हड़ताल पर रहेंगे।

मांगों में 13-14 माह से बकाया कमीशन देने, मानदेय की स्वीकृति और कमीशन में वृद्धि सहित 10 सूत्री मांग शामिल हैं।