Breaking :
||IPL 2024 शुरू होने से पहले ही विकेटकीपर बल्लेबाज रॉबिन मिंज सड़क दुर्घटना में घायल||स्पेनिश महिला पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को भेजा गया जेल, पीड़ित दंपति का कोर्ट में बयान दर्ज||लातेहार: मनिका में संदेहास्पद स्थिति में पेड़ से लटका मिला युवक का शव||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक
Sunday, March 3, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: अपनी मांगों को लेकर 17 जून को मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंगे पारा शिक्षक

लातेहार : राज्य सरकार के लगभग तीन वर्ष से ज्यादा समय तक के कार्यकाल के बाद भी पारा शिक्षकों से किया वादा पूरा नहीं करने से आक्रोशित सूबे के 62 हजार पारा शिक्षकों ने एक मांग वेतनमान को लेकर आगामी 17 जून को मुख्यमंत्री के रांची स्थित आवास का घेराव करेंगे। जिसकी तैयारी पारा शिक्षकों ने पूरी कर ली है।

मोर्चा के लातेहार जिलाध्यक्ष अतुल कुमार व महासचिव अनूप कुमार ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि लातेहार जिले के सभी प्रखंडों में बैठक कर रांची मार्च को अंतिम रूप दिया गया है। जिले के हजारों पारा शिक्षक अपनी सुविधानुसार रांची पहुंचेंगे और मुख्यमंत्री से वादा पूरा करने की गुहार लगायेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गौरतलब है कि सरकार बनने के बाद तीन महीने में वेतनमान देने की घोषणा करने वाले माटी के लाल को लगभग चार साल हो गये हैं, लेकिन उन्होंने अभी तक अपना वादा पूरा नहीं किया है, जिससे हम सभी पारा शिक्षकों में रोष है। हजारों शिक्षक या तो सेवानिवृत्त हो रहे हैं या असमय काल के गाल में समा रहे हैं, इसके बाद भी यह सरकार आंख मूंदकर सो रही है।

उन्होंने कहा कि जिला कमेटी सभी पारा शिक्षकों से अनुरोध करती है कि वे हर हाल में वेतनमान की मांग को लेकर रांची पहुंचें और अपनी चट्टानी एकता के बल पर सरकार को मजबूर कर उनसे वेतनमान लेकर ही अपने घरों को लौटें। जब दूसरे राज्य वेतनमान दे सकते हैं तो झारखंड सरकार वादा करके भी अभी तक नही देने का सिर्फ और सिर्फ बहाने बनाती रही है, जिसे आंदोलन से ही हासिल किया जा सकता है।