Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: अपनी मांगों को लेकर 17 जून को मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंगे पारा शिक्षक

लातेहार : राज्य सरकार के लगभग तीन वर्ष से ज्यादा समय तक के कार्यकाल के बाद भी पारा शिक्षकों से किया वादा पूरा नहीं करने से आक्रोशित सूबे के 62 हजार पारा शिक्षकों ने एक मांग वेतनमान को लेकर आगामी 17 जून को मुख्यमंत्री के रांची स्थित आवास का घेराव करेंगे। जिसकी तैयारी पारा शिक्षकों ने पूरी कर ली है।

मोर्चा के लातेहार जिलाध्यक्ष अतुल कुमार व महासचिव अनूप कुमार ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि लातेहार जिले के सभी प्रखंडों में बैठक कर रांची मार्च को अंतिम रूप दिया गया है। जिले के हजारों पारा शिक्षक अपनी सुविधानुसार रांची पहुंचेंगे और मुख्यमंत्री से वादा पूरा करने की गुहार लगायेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गौरतलब है कि सरकार बनने के बाद तीन महीने में वेतनमान देने की घोषणा करने वाले माटी के लाल को लगभग चार साल हो गये हैं, लेकिन उन्होंने अभी तक अपना वादा पूरा नहीं किया है, जिससे हम सभी पारा शिक्षकों में रोष है। हजारों शिक्षक या तो सेवानिवृत्त हो रहे हैं या असमय काल के गाल में समा रहे हैं, इसके बाद भी यह सरकार आंख मूंदकर सो रही है।

उन्होंने कहा कि जिला कमेटी सभी पारा शिक्षकों से अनुरोध करती है कि वे हर हाल में वेतनमान की मांग को लेकर रांची पहुंचें और अपनी चट्टानी एकता के बल पर सरकार को मजबूर कर उनसे वेतनमान लेकर ही अपने घरों को लौटें। जब दूसरे राज्य वेतनमान दे सकते हैं तो झारखंड सरकार वादा करके भी अभी तक नही देने का सिर्फ और सिर्फ बहाने बनाती रही है, जिसे आंदोलन से ही हासिल किया जा सकता है।