Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

पलामू : दो नाबालिगों की होने वाली थी शादी, प्रशासन ने मौके पर पहुँच कर बाल विवाह रोका

पलामू में 48 घंटे में दो बाल विवाह रोक दिए गए। दोनों शादियों की जानकारी चाइल्डलाइन टोल फ्री नंबर 1098 (चाइल्डलाइन टोल फ्री नंबर 1098) पर कॉल की गई। जिसके बाद प्रशासन ने त्वरित कार्रवाई की।

पलामू : जिले में 48 घंटे के भीतर दो बाल विवाह पर रोक लगा दी गई है। पहला मामला पलामू के पाटन थाना क्षेत्र का है जबकि दूसरा सदर थाना क्षेत्र का है। दोनों ही मामलों में प्रशासनिक टीम ने बाल विवाह को लेकर परिजनों को परामर्श दिया है। दोनों के परिवारों को लड़कियों की सही उम्र होने के बाद ही शादी करने की हिदायत दी गई है।

प्राप्त जानकारी अनुसार चाइल्डलाइन टोल फ्री नंबर पर कॉल कर बताया गया कि पाटन थाना क्षेत्र के सिक्की कला में एक नाबालिग की शादी है। इस सूचना के आलोक में पाटन की प्रशासनिक टीम मौके पर पहुंची और शादी को रोक दिया।

वहीं, मेदिनीनगर के रामजानकी मंदिर में सदर थाना क्षेत्र के रजवाडीह की नाबालिग की शादी की जानकारी भी चाइल्डलाइन टोल फ्री नंबर पर कॉल कर दी गई। जिसके बाद सदर बीडीओ व सदर थाना प्रभारी के नेतृत्व में पुलिस व प्रशासनिक टीम ने शादी रोक दी।

परिजनों ने पुलिस टीम को बताया कि नाबालिग की मां कर्ज लेकर शादी कर रही है। जानकारी के अनुसार रिश्ते में चाचा ने चाइल्डलाइन टोल फ्री नंबर पर कॉल कर इस बात की जानकारी दी, ताकि जमीन विवाद में वे परेशान रहें। वहीं प्रशासनिक टीम ने परिजनों की काउंसलिंग की और उन्हें सही उम्र होने पर ही शादी करने की हिदायत दी।