Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

पलामू: जावा महुआ से बनी जहरीली गैस, मछली मारने कुएं में उतरे दो युवकों की दम घुटने से मौत

पप्पू कुमार / मेदिनीनगर

पलामू : मेदिनीनगर शहर थाना क्षेत्र के भूसही गांव के एक कुएं में मछली मारने उतरे दो युवकों की दम घुटने से मौत हो गयी। बचाने के प्रयास में कुछ युवक बेहोश भी हो गए। उसका इलाज किया गया। मृतकों की पहचान भूसही निवासी पताली सिंह (37 वर्ष) और रामचंद्र चौधरी उर्फ ​​तिलंगी चौधरी (40 वर्ष) के रूप में हुई है। घटना के बाद से गांव में कोहराम मच गया है। पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है।

डीएसपी सुरजीत कुमार ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। जांच में पता चला है कि एक युवक पहले भी कुएं में उतरा था। इसके बाद वह बेहोश हो गया। पीछे से उसे बचाने गया एक अन्य युवक भी बेहोश हो गया और उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि ऐसी घटना कुएं में जहरीली गैस होने के कारण हुई है।

इसे भी पढ़ें :- ईडी रेड में अब तक 150 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूजा सिंघल को हो सकती है 10 वर्ष तक की सजा

जानकारी मिली है कि शव को निकालने के लिए नीचे उतरे कुछ अन्य लोगों को चक्कर आ रहे थे। वे किसी तरह बाहर निकले। कुआं लाला चौधरी नाम के व्यक्ति का है। लाला के कहने पर दोनों एक-एक कर मछली पकड़ने के लिए कुएं में उतरे थे। घटना शनिवार सुबह सात बजे की है। महुआ शराब बनाने के लिए महुआ को कुएं में ठंडा करने के सवाल पर डीएसपी ने कहा कि इसकी जांच की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक लाला चौधरी के कुएं में कुछ मछलियां हैं। मछलियों को मारने के लिए कुएं के पानी को मोटर पंप से सुखाया गया। कुएं में एक से दो फीट पानी था। शनिवार की सुबह तिलंगी चौधरी सबसे पहले कुएं में उतरीं और अचानक बेहोश हो गईं। तिलंगी को बचाने के लिए पताली भी कुएं में उतरा और गश खाने लगा। ग्रामीणों के अनुसार लाला चौधरी उन दोनों को मछली मारने के लिए लाया था। पाटली का दम घुटने लगा तो किसी तरह उन्हें बाहर निकाला गया। तिलंगी का शव लेटे होने के कारण उसे बाहर निकालना मुश्किल था।

शुरुआत में ग्रामीण और पुलिस शव को निकालने की स्थिति में नहीं थे, लेकिन जब डीएसपी सुरजीत कुमार मौके पर पहुंचे तो उन्होंने तीन घंटे की मशक्कत के बाद किसी तरह रस्सी और लोहे की छड़ का इस्तेमाल कर शव को बाहर निकाला। दावा किया जा रहा है कि दोनों की मौत के बाद कुएं में रखे महुआ को निकाल लिया गया।

घटना के बाद सदर थाना प्रभारी कमलेश कुमार ने जांच तेज कर दी है। ग्रामीणों के आरोप पर थाना प्रभारी ने अंचल अधिकारी जेके मिश्रा के साथ लाला चौधरी के घर की तलाशी ली। दरवाजा बाहर से बंद मिला तो ताला तोड़कर भारी मात्रा में जावा महुआ बरामद किया गया। सारा महुआ मौके पर ही नष्ट हो गई है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

थाना प्रभारी ने बताया कि घटना के बाद से लाला चौधरी फरार है। ग्रामीणों ने बताया है कि लाला महुआ शराब का धंधा करता था। उन्होंने बताया कि दोनों युवकों की मौत कार्बन मोनोऑक्साइड की चपेट में से हुई है।