Breaking :
||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी

पलामू : नौकरी का झांसा देकर 90 लाख की ठगी

पलामू के छतरपुर प्रखंड के सुदूरवर्ती गांव की महिलाओं से 90 लाख रुपए की ठगी कर ली गई है . फेडरल फाउंडेशन, चेन्नई की कंपनी के नाम से महिलाओं को झांसे में लेकर पार्ट टाइम शिक्षिका बनाने का सपना दिखाया गया .

जानकारी के अनुसार हैदरनगर के लहरपुर निवासी अर्जुन मेहता इस गिरोह का सरगना है. ठगी की शिकार हुई दटटूटा निवासी रिंकी कुमारी ने बताया कि अर्जुन मेहता ने वार्ड स्तर पर निशुल्क शिक्षा केंद्र चलाने के नाम पर प्रखंड के 900 महिलाओं से 10 से ₹15000 प्रति महिला वसूली की. वह करीब 90 लाख रूपए की ठगी करने के बाद कार्यालय बंद कर भाग गया है.

ठगी की शिकार महिलाओं ने थाने में आवेदन देकर अर्जुन मेहता के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है. महिला का आरोप है कि उनका आवेदन थाने में नहीं लिया गया.

पलामू की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

छतरपुर उच्च विद्यालय हाई स्कूल के पीछे मसीहानी में फेडरल फाउंडेशन, चेन्नई नामक कंपनी का कार्यालय खोला गया. इसके माध्यम से निशुल्क शिक्षा केंद्र चलाने की बात कही गई. बताया गया कि प्रति महिला को घर बैठे पार्ट टाइम 15 बच्चों को प्रतिदिन 2 घंटे पढ़ाना है. इसके एवज में ₹4000 प्रतिमाह दिए जाएंगे. इसके बाद महिलाओं से ₹10000 लिए गए. फिर स्टांप पेपर पर एग्रीमेंट कर महिलाओं को बच्चों को पढ़ाने का निर्देश दिया गया.

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

शुरुआत में संस्थान से जुड़ी महिलाओं को ₹4000 प्रति माह उनके खाते में पैसे भेजे गए. इसके बाद महिलाओं को संस्थान पर पूरा विश्वास हो गया और वह आसपास की महिलाओं को इस से जोड़ती चली गई. देखते ही देखते ऐसी महिलाओं की संख्या 900 तक पहुंच गई. इसके बाद सबसे पैसा वसूल कर अर्जुन मेहता ने कार्यालय में ताला जड़ा और पैसा लेकर फरार हो गया है.