Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण पर जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन

लातेहार : राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार, नई दिल्ली के तत्वावधान एवं झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकार (झालसा), रांची के नेतृत्व में जिला विधिक सेवा प्राधिकार, लातेहार एवं जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सम्मेलन कक्ष में MACT (Motor Accidents Claims Tribunal) पर जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इस कार्यक्रम का उद्घाटन जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय अमित कुमार, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मो नसीर अहमद, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकार स्वाति विजय उपाध्याय, जिला परिवहन पदाधिकारी सुरेंद्र कुमार सिंह, एसडीपीओ संतोष कुमार मिश्रा ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कार्यक्रम में जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय अमित कुमार ने वाहन दुर्घटना दावा से संबंधित मुआवजे के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मो नसीर अहमद ने एमएसीटी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जब भी कोई दुर्घटना होती है तो दुर्घटना से प्रभावित व्यक्ति की जान बचाना प्राथमिकता होनी चाहिए। हादसे से प्रभावित पीड़ित परिवार की स्थिति काफी दयनीय हो जाती है, ऐसे में पुलिस जांच को तय समय सीमा के भीतर सभी दस्तावेज संबंधित न्यायालय को सौंपने चाहिए ताकि आगे की न्यायिक प्रक्रिया शुरू की जा सके और न्याय मिल सके। पीड़ित परिवार को और उचित मुआवजे की राशि का अनुमान भी MACT द्वारा लगाया जा सकता है।

जिला विधिक सेवा प्राधिकार की सचिव स्वाति विजय उपाध्याय ने कहा कि एमएसीटी मामलों में पुलिस अधिकारियों की भूमिका अहम होती है। इसलिए संबंधित पुलिस अधिकारी जिम्मेदारी व संवेदनशीलता से जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करें। इस कार्यशाला में मोटर दुर्घटना पीड़ित परिवारों को समय पर एवं उचित मुआवजा प्रदान करने के प्रावधानों एवं प्रक्रिया के सरलीकरण पर चर्चा की गयी।

जिला परिवहन पदाधिकारी सुरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि गाड़ी चलाने के दौरान कभी भी दुर्घटना हो सकती है। सभी को सुरक्षित वाहन चलाने को कहा गया और इस कार्यशाला में सरकार द्वारा जारी कल्याणकारी योजनाओं पर प्रकाश डाला गया। इस संदर्भ में अधिक से अधिक जागरूकता फैलाने पर जोर दिया गया। एडवोकेट संजय कुमार ने इस तरह की कार्यशाला के आयोजन की सराहना की और कहा कि दुर्घटना पीड़ितों को उचित राहत दिलाने में यह मील का पत्थर साबित होगा।

इस अवसर पर लातेहार के अनुमंडल पदाधिकारी शेखर कुमार, गोपनीय शाखा के प्रभारी श्रेयांस, मेघनाथ उराव, प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अन्य सभी प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी, जिले के सभी थाना प्रभारी एवं एलएडीसी के अधिवक्तागण उपस्थित थे।

जिला विधिक सेवा प्राधिकार, लातेहार, जिला प्रशासन के अधिकारियों एवं पुलिस विभाग के कर्मचारियों के संयुक्त प्रयास से एमएसीटी कार्यशाला का सफल आयोजन किया गया। इस अवसर पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संतोष कुमार मिश्रा ने सफल आयोजन के लिए सभी पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों को धन्यवाद दिया।

Latehar Latest News Today