Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

CRPF की पहल पर नक्सल प्रभावित गांव के बच्चों को 15 दिनों तक मिलेगा निःशुल्क कंप्यूटर प्रशिक्षण

गोपी कुमार सिंह/रुपेश कुमार अग्रवाल

लातेहार : जिले भर से नक्सलियों को खदेड़ने में सुरक्षाबलों ने जो जज्बा दिखाया है वह किसी से छिपा नहीं है. नक्सलियों की टोह में सुरक्षाबलों के जवान कड़ाके की ठंड और तपती धूप में भी जंगलों में नजर आते हैं। सुरक्षाबलों के अदम्य जज्बे ने हौसले के साथ बुलबुल जंगल, बुढा पहाड़ और पेशर जैसे नक्सल प्रभावित इलाकों से नक्सलियों का सफाया कर दिया है। कुल मिलाकर कहें तो पहले नक्सलियों के अंदर जो हौसला था और जिस तरह से वे दिन के उजाले में भी वे आगजनी और बम विस्फोट करते थे, लेकिन सुरक्षा बलों की कार्रवाई ने उनके हौसले पस्त कर दिया है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

अब सुरक्षाबल के जवान उन क्षेत्रों के बच्चों को शिक्षा के प्रति जागरूक करने और उनके बेहतर भविष्य के निर्माण में लगे हुए हैं। नक्सलियों की कार गुजारी से नक्सल प्रभावित गांव के बच्चों में शिक्षा की कमी साफ दिखाई दे रही है। लेकिन जब उन इलाकों को नक्सलियों के चंगुल से मुक्त करा लिया गया है तो सीआरपीएफ के जवानों द्वारा ऐसे इलाकों के बच्चों को शिक्षित करने का प्रयास किया जा रहा है।

इसी कड़ी में आगामी 15 दिनों तक लातेहार जिला मुख्यालय से 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ओरेया में सीआरपीएफ 214 बटालियन द्वारा निकटवर्ती विद्यालयों के विद्यार्थियों को कम्प्यूटर की बुनियादी शिक्षा निःशुल्क दी जायेगी। इसकी शुरुआत आज यानी 13 मार्च से हो गयी है। इससे बच्चों में खास उत्साह देखने को मिल रहा है। बच्चों का मानना है कि आज के दौर में कंप्यूटर का ज्ञान बहुत जरूरी है। और सीआरपीएफ उन्हें ट्रेनिंग के जरिये इसकी जानकारी दे रही है।

इस पूरे कार्यक्रम की अगुवाई सीआरपीएफ 214 बटालियन के कमांडेंट केडी जोशी कर रहे हैं। इस प्रशिक्षण में भाग लेने वाले बच्चों को प्रशिक्षण के बाद प्रमाण पत्र भी दिया जायेगा। सीआरपीएफ की इस पहल को लेकर ग्रामीणों में काफी उत्साह है। उन्हें यह भी उम्मीद है कि सीआरपीएफ द्वारा किये जा रहे इस तरह के प्रयास से न केवल बच्चे शिक्षित होंगे, बल्कि बच्चे गांव से बाहर जाकर बड़े शहरों में नौकरी कर सकेंगे। जिससे गांव का नाम भी रोशन होगा।

प्रशिक्षण प्राप्त कर रहीं सुनीता कुमारी एवं अनूप यादव ने बताया कि इस प्रशिक्षण से आने वाले समय में काफी लाभ मिलेगा। यह प्रशिक्षण भविष्य में हमारे लिए वरदान साबित होगा। बच्चे सीआरपीएफ की इस पहल की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं।

इधर इस संबंध में सीआरपीएफ 214 बटालियन के कमांडेंट केडी जोशी ने प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे बच्चों से अपील करते हुए कहा कि आसपास के विद्यालयों के छात्र अधिक से अधिक संख्या में भाग लेकर इस प्रशिक्षण का लाभ उठाएं। साथ ही उन्होंने कहा कि शिक्षक तब तक सफल नहीं होता जब तक शिक्षार्थियों में सीखने की ललक न हो। उन्होंने आगे कहा कि यह सिविक एक्शन के तहत भारत सरकार की एक योजना है जिसके तहत यह कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

लातेहार CRPF सिविक एक्शन