Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत
Sunday, May 26, 2024
गारूपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: गारू में बुनियादी समस्याओं को लेकर संयुक्त ग्राम सभा ने किया प्रदर्शन, हेमंत सरकार पर वादों से मुकरने का आरोप

लातेहार : केंद्र एवं राज्य सरकार ग्रामीणों को राहत देने के उद्देश्य से जनवितरण प्रणाली के तहत राशन मुहैय्या करा रही है। लेकिन इसपर संबंधित डीलर जमकर घोटाला कर रहे है। आलम यह है कि ग्रामीणों को अपने हक अधिकार के लिए सड़क पर उतरना पड़ जा रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

दरअसल, लातेहार जिले के गारू प्रखंड मुख्यालय में सैकड़ों आदिवासियों ने राशन, पेंशन, मनरेगा, मध्यान भोजन में अंडा नियमित न मिलने जैसी मूलभूत समस्याओं को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में डीसी, बीडीओ, एमओ के खिलाफ नारेबाजी करते हुए मनमानी का आरोप लगाया है।

इस विरोध प्रदर्शन में ज्यादातर महिलाएं शामिल थी। ग्रामीणों का यह प्रदर्शन संयुक्त ग्राम सभा के बैनर तले अरमु मोड़ से शुरु होकर गारू प्रखंड कार्यालय पहुँची। जहाँ यह प्रदर्शन सभा मे तब्दील हो गयी। ग्रामीण इस प्रदर्शन में पारंपरिक ढ़ोल, नगाड़े के साथ शामिल हुए थे। जहाँ प्रखंड कार्यालय पहुच ढ़ोल, नगाड़े पर नृत्य करते हुए प्रदर्शन कर प्रशासन पर मनमानी का आरोप लगाया है।

प्रदर्शनकारियो ने हेमंत पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सरकार बनने से पूर्व हर आंगनवाड़ी केंद्र और विद्यालयों में नियमित रूप से अंडा देने का वादा किया था। लेकिन ये वादा पूरी तरह खोखला साबित होता दिख रहा है। चुकी विद्यालयों और आंगनवाड़ी केंद्रों में नियमित रूप से अंडा नही मिल पा रहा है। इसके आलावा सरकार पर सही ढंग से राशन भी नही देने का आरोप लगाया है।

प्रदर्शनकारियो ने कहा ग्रामीणों को हरा राशन कार्ड तो मिल गया है लेकिन सही ढंग से राशन नही मिल पा रहा है। राशन वितरण में भारी कटौती की जा रही है। इसके आलावा कई अन्य समस्याओं को लेकर ग्रामीणों ने विरोध दर्ज किया और अपनी मांगों से संबंधित एक ज्ञापन अंचलाधिकारी को सौंपा है। प्रदर्शनकारियों ने कहा अगर हमारी मांगे पूरी नही होती है तो आगे उग्र आंदोलन किया जायेगा।