Breaking :
||चतरा समेत इन चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को विरोधियों से अधिक अपनों से खतरा||झारखंड: पहले चरण के चुनाव में पलामू समेत इन चार लोकसभा सीटों पर युवा मतदाता निभायेंगे निर्णायक भूमिका||आय से अधिक संपत्ति मामले में निलंबित चीफ इंजीनियर वीरेंद्र राम के पिता और पत्नी के खिलाफ कुर्की वारंट का इश्तेहार जारी||पलामू लोकसभा: शीर्ष माओवादी कमांडर रहे कामेश्वर बैठा समेत तीन उम्मीदवारों ने किया नामांकन||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये
Wednesday, April 24, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: बिहार-झारखंड सीमा पर अब आईआरबी के जवान नक्सलियों से लेंगे लोहा

पलामू : झारखंड-बिहार सीमा पर नक्सल विरोधी अभियान में केंद्रीय रिजर्व बल (सीआरपीएफ) की जगह इंडियन रिजर्व बटालियन के जवानों को तैनात किया जाएगा। इंडियन रिजर्व बटालियन के जवानों की तैनाती बिहार से सटे पलामू के इलाके में की जाएगी। पलामू में नौडीहा बाजार थाना क्षेत्र के डगरा और कुहकुह और मनातू में आईआरबी को तैनात किया जाना है।

इस संबंध में पुलिस मुख्यालय की तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है। दो दशक के बाद बिहार सीमा पर सीआरपीएफ की जगह आईआरबी नक्सल विरोधी अभियान का नेतृत्व करेगी। पलामू एसपी रीष्मा रमेशन ने शनिवार को आईआरबी की तैनाती की पुष्टि की है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पलामू में सीआरपीएफ के 134 बटालियन को क्लोज किया जा रहा है। पलामू से सीआरपीएफ 134 बटालियन को सारंडा के इलाके में शिफ्ट किया जा रहा है। 1995-96 में पहली बार नक्सल विरोधी अभियान के लिए पलामू में सीआरपीएफ की दो कंपनी पहुंची थी। वर्ष 2003-04 में पहली बार पूरी बटालियन की तैनाती की गई थी। उस समय 13वीं बटालियन को तैनात किया गया था। वर्ष 2010-11 में सीआरपीएफ की 134वीं बटालियन को तैनात किया गया था।

पलामू में तैनाती के दौरान सीआरपीएफ 134 बटालियन के 20 से अधिक जवानों और अधिकारियों को पुलिस मेडल ऑफ गैलेंट्री मिली थी। सीआरपीएफ के क्लोज होने के बाद पहली बार पलामू के इलाके में झारखंड पुलिस के जवान नक्सल विरोधी अभियान का नेतृत्व करेंगे। कई इलाकों में ग्रामीण सीआरपीएफ को हटाने का विरोध कर रहे हैं और मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है।

पलामू में सीआरपीएफ 134 बटालियन की सात कंपनियां तैनात थीं। सीआरपीएफ झारखंड-बिहार सीमा पर हरिहरगंज, कुहकुह, डगरा, मनातू और चक में तैनात थी। इसके अलावा पलामू, चतरा और लातेहार सीमा पर तैनात थी। इनमें बिहार सीमा पर दो स्थानों को छोड़ दिया जाए तो सभी जगह सीआरपीएफ की कंपनियों को हटा दिया गया है। इंडियन रिजर्व बटालियन की टुकड़ी जल्द ही डगरा, कुहकुह और मनातू में तैनात होगी। पलामू के लेस्लीगंज में आईआरबी और जैप का मुख्यालय है।

Palamu Latest News Today