Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी ने किया श्रीरामचरित मानस नवाह्न परायण पाठ महायज्ञ के स्वर्ण जयंती समारोह का उदघाटन, कहा-

रामराज लाना है तो मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के पदचिन्हों पर होगा चलना

लातेहार : पूर्व विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी ने कहा कि देश में रामराज लाना है तो मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम के पदचिह्नों पर चलना होगा। श्रीराम हमारे आदर्श हैं, हमें उनके आदर्शों को अपने जीवन में उतारना होगा। नामधारी शहर के मध्य स्थित अंबाकोठी में आयोजित श्री रामचरित मानस नवाह्न पारायण पाठ महायज्ञ के 50वें अधिवेशन के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि आज जमीन-जायदाद के लिए भाई-भाई हत्याएं तक कर रहे हैं, लेकिन जब भरत को अयोध्या की राजगद्दी मिली और भगवान श्रीराम वनवास चले गये, तो भाई भरत ने अयोध्या की राजगद्दी ठुकरा दी और भगवान की खड़ाऊ को राजगद्दी पर बैठा दिया।

उन्होंने कहा कि तुलसीदास ने लिखा है कि रामराज में कोई असमानता नहीं थी और न ही कोई द्वेष था। आज देश कई हिस्सों में बंटा हुआ है। हर तरफ भ्रष्टाचार और कदाचार फैला हुआ है, ऐसे में रामचरित मानस में वर्णित श्रीराम के चरित्र का अनुकरण करने की जरूरत है। जिस तरह हम धर्म के प्रति वफादार हैं उसी तरह हमें समाज और राष्ट्र के प्रति भी वफादार रहना होगा।

इससे पहले महा समिति के मुख्य संरक्षक व विधायक बैद्यनाथ राम ने कहा कि यह आयोजन यहां पिछले 50 वर्षों से होता आ रहा है और इसमें आम लोगों की भागीदारी काफी अधिक होती है। उन्होंने कहा कि समिति ने सीमित संसाधनों के साथ इस आयोजन की शुरुआत की थी, लेकिन आज यह आयोजन भव्य रूप ले चुका है।

कोषाध्यक्ष विनोद कुमार महलका ने बताया कि इस आयोजन की शुरुआत वर्ष 1973 में हुई थी, तब से लेकर आज तक यह आयोजन बिना किसी रुकावट के सफल रहा है।

इससे पहले श्री नामधारी व विधायक श्री राम ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस अवसर पर पंडित अनिल शास्त्री एवं अशोक कुमार महलका द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार किया गया। मंच का संचालन विनोद कुमार महलका, सुनील कुमार शौंडिक एवं धन्यवाद डॉ. विशाल शर्मा ने किया।

मानस पाठ के 50 वर्ष पूर्ण होने पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह एवं शॉल भेंट किये गये। इस दौरान विशिष्ट अतिथियों के बीच समिति द्वारा प्रकाशित स्मारिका का विमोचन किया गया, जिसमें समिति द्वारा अब तक किये गये कार्यों की जानकारी अंकित है।

मौके पर महासमिति के अध्यक्ष प्रमोद प्रसाद सिंह, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष सुशील अग्रवाल, सीतामणि तिर्की, महेंद्र प्रसाद गुप्ता, जवाहर प्रसाद अग्रवाल, मदन प्रसाद, चंद्रप्रकाश उपाध्याय, राजू रंजन सिंह, दुर्गा प्रसाद, जर्नादन प्रसाद, राजीव रंजन पांडेय, अंकित पांडेय, अ​श्विनी सिंह समेत सैकड़ों लोग मौजूद थे।

Latehar Navahana Parayan Paath Mahayagya