Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
पलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: हेरहंज के मनरेगा मजदूर की श्रीनगर में इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने शव लाने की लगायी गुहार, सांसद ने की पहल

प्रदीप यादव/हेरहंज

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड अंतर्गत सलैया पंचायत के कसमार गांव के मनरेगा मजदूर 40 वर्षीय राम खेलावन राणा की शुक्रवार को श्रीनगर के हरिसिंह अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मृतक के भतीजे नेमन राणा ने बताया कि वह 15 दिन पहले काम से श्रीनगर गये थे। वहां किराये पर रहकर काम करता था। 02 नवंबर को अचानक वहां से फोन आया कि उनकी तबीयत खराब है, खबर मिलते ही उनका बेटा राहुल राणा रांची से श्रीनगर के लिए निकला। इसी बीच 3 नवम्बर की सुबह उनका निधन हो गया। इसके बाद परिजनों ने शव लाने के लिए सांसद, विधायक और जिला प्रशासन से गुहार लगायी।

इधर, सूचना मिलते ही चतरा सांसद सुनील कुमार सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए श्रम अधीक्षक लातेहार से बात की और अविलंब इस पर आगे की कार्रवाई करने का निर्देश दिया। सांसद ने श्रीनगर से मजदूर के शव लाने को लेकर भी पहल की है।

श्रम अधीक्षक लक्ष्मी कुमारी ने बताया कि माननीय सांसद के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई जिस पर तुरंत परिजनों से संपर्क किया गया और आर्थिक सहायता के लिए लातेहार उपायुक्त से अनुशंसा की गयी। परिजनों को तत्काल 50 हजार रुपये की सहायता राशि विभागीय स्तर पर प्रदान की जायेगी।

वहीं, कुछ ग्रामीणों ने शव लाने के लिए मृतक के बेटे के खाते में सहयोग राशि के तौर पर पैसे भी भेजे हैं। मनरेगा मजदूर की असामयिक मौत से पूरे परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है।