Breaking :
||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद

मनिका पंचायत समिति की बैठक बना माखौल, अधिकारी नदारद, सदस्यों ने जतायी नाराजगी, बीडीओ को सुनायी खरी-खोटी

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

दो बार पहले भी बैठक हो चुकी है स्थगित, ठगे महसूस कर रहे हैं प्रमुख और उप प्रमुख

लातेहार : मनिका प्रखंड कार्यालय के सभागार में शुक्रवार को प्रमुख प्रतिमा देवी की अध्यक्षता में हुई पंचायत समिति सदस्य की बैठक पूरी तरह उपहासपूर्ण रही। बैठक में प्रखंड के 18 पंचायत समिति सदस्यों में से 14 सदस्य मौजूद थे लेकिन दोपहर 1.30 बजे तक किसी भी विभाग का एक भी अधिकारी बैठक में नहीं पहुंचा।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

अधिकारियों के बैठक में नहीं पहुंचने पर पंचायत समिति सदस्यों का गुस्सा सातवें आसमान पर था। दोपहर 1.30 बजे बीडीओ वीरेंद्र किंडो बैठक में आये तो पंचायत समिति के सदस्य भड़क गये। बैठक में बीडीओ के बैठते ही मुखिया, उपप्रमुख व अन्य सदस्यों ने बीडीओ से सवाल करना शुरू कर दिया कि किसी भी विभाग के अधिकारी बैठक में क्यों नहीं आये। नाराज पंचायत समिति सदस्यों ने खूब खरी-खोटी सुनायी।

बैठक में बीडीओ ने बताया कि कार्यालय से पत्र जारी कर सभी विभागों को पंचायत समिति की बैठक की सूचना देने को कहा गया है। जिसे प्रधान सहायक लीनू बेक को दिया गया। लेकिन प्रधान सहायक ने बैठक के लिए जारी पत्र किसी भी सहायक को तामील कराने के लिए नहीं दिया। जिस कारण कोई अधिकारी नहीं आया। मुखिया सहित सभी सदस्यों ने प्रधान सहायक से स्पष्टीकरण की मांग की।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हालांकि मुखिया ने इस बारे में डीसी भोर सिंह यादव और डीडीसी सुरेंद्र कुमार वर्मा से बात की। मुखिया ने बताया कि डीसी ने डीडीसी से बात करने को कहा। मैंने डीडीसी से बात की तो उन्होंने कहा कि देखते हैं।

कुल मिलाकर देखा जाय तो बैठक को पूरी तरह से तमाशा बना दिया गया। इस तरह पदाधिकारियों की लापरवाही के कारण शुक्रवार को लगातार तीसरी बैठक नहीं हो सकी। पंचायत समिति के सभी उपस्थित सदस्यों ने इस संबंध में डीसी से मिलकर स्थिति से अवगत कराने को कहा है।

मौके पर उप प्रमुख कांति देवी, पंसस सुषमा देवी, उषा देवी, सुमन देवी, प्रमोद राम, विकास तिवारी, भिखारी सिंह, देवधारी उरांव, महेंद्र सिंह, नंददेव सिंह, धर्मेंद्र राम, बाबूलाल कु रवि और रूबी देवी उपस्थित थीं।