Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत
Sunday, May 26, 2024
चंदवापलामू प्रमंडललातेहार

चंदवा में बंद पड़े पुराने अभिजीत पावर प्लांट पर माफियाओं की नज़र, मची है लूट : प्रतुल

मुकेश कुमार सिंह/चंदवा

प्लांट से लगातार हो रही चोरी, स्क्रैप के नाम पर कीमती उपकरणों को ले गये कूड़े के भाव

लातेहार : चंदवा में बंद पड़े अभिजीत के पुराने प्लांट से इन दिनों स्क्रैप के नाम पर दिनदहाड़े चोरी हो रही है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने इस चोरी को माफियाओं द्वारा दिनदहाड़े लूट बताया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

प्रतुल ने कहा कि स्क्रैप के नाम पर कीमती सामान की चोरी की गयी है। इस बड़ी चोरी में एक माफिया गिरोह सक्रिय है, जो मुट्ठी भर स्थानीय दलालों के साथ मिलकर पूरे प्लांट को लूटना चाहता है। प्रतुल ने कहा कि ग्रामीणों द्वारा मुझे दी गयी जानकारी के अनुसार जिस क्षेत्र से कबाड़ उठाया जाना था, उसके अलावा दबंग, माफिया गिरोह ने कबाड़ के नाम पर कई सामग्री की चोरी करायी। इस पूरे काम में बाहरी मजदूरों को लगाया गया है, जिससे स्थानीय मजदूरों में रोष है।

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि वे जल्द ही प्लांट से प्रभावित रैयतों, मजदूरों और स्थानीय ग्रामीणों से मिलेंगे और पूरी लूट की जानकारी संबंधित मंत्रालय और अधिकारियों को देंगे। स्क्रैप के नाम पर करोड़ों की लूट की गयी है। जानकारों के मुताबिक इस लूट की रकम कई सौ करोड़ रुपये है। बड़ी जांच एजेंसी से जांच की दरकार है। प्रतुल ने कहा कि बड़े दुर्भाग्य की बात है कि कई स्थानीय रैयतों को अभी तक उनकी जमीन का पूरा मुआवजा नहीं मिला है, लेकिन लूट का खेल बदस्तूर जारी है।