Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: लेस्लीगंज-सतबरवा पथ बारिश के बाद गड्ढे में तब्दील, बीच सड़क पर गंदे जलजमाव में बैठ कर जताया विरोध

पलामू : जिले के लेस्लीगंज-सतबरवा पथ की हालत बारिश के बाद काफी खराब हो गयी है। सबसे खराब स्थिति प्रखंड मुख्यालय के ढेला गांव आशीर्वाद अस्पताल के पास है, जहां सड़क पहले से ही गड्ढे में तब्दील हो गयी है। इसमें बारिश का पानी जमा हो गया है। यात्रियों को हर कदम पर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस सड़क में सुधार नहीं होने पर सोमवार को प्रखंड क्षेत्र के किरतो निवासी दिलीप तिवारी ने चिलचिलाती धूप में सड़क के बीच गंदे पानी भरे गड्ढे में बैठकर विरोध जताया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

तिवारी के समर्थन में कुराइन पतरा पंचायत के उपमुखिया अनुज कुमार और सामाजिक कार्यकर्ता हरिओम प्रजापति भी बैठ गये। तिवारी ने बताया कि राहगीरों को कदम-कदम पर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सड़क यातायात की दृष्टि से यह अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह सड़क करीब बीस गांवों को जोड़ती है। सड़क के बीचोबीच जलजमाव हो गया है। इससे राहगीरों का आवागमन कष्टकारी हो गया है। दुर्घटना का भी खतरा बना रहता है।

ग्रामीणों ने महीनों तक सड़क मरम्मत की मांग की, लेकिन स्थानीय जन प्रतिनिधियों ने इस सड़क की खराब स्थिति पर ध्यान नहीं दिया। अब हम सड़क पर बैठे हैं। जब तक जलजमाव का समाधान नहीं हो जाता, हमलोग पानी में ही बैठे रहेंगे। अनशनरत युवा कार्यकर्ताओं का कहना है कि जब तक प्रशासन लिखित आश्वासन नहीं देता है। अनशन खत्म नहीं करेंगे।

गौरतलब है कि लेस्लीगंज मुख्यालय के नया बाजार चौक से राजहरा होते हुए सतबरवा तक इस सड़क का निर्माण करोड़ों की लागत से किया गया है, लेकिन सड़क गुणवत्तापूर्ण नहीं होने के कारण जगह-जगह गड्ढे बन गये हैं और जलजमाव हो गया है।