Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार जिला परिषद उपाध्यक्ष ने प्रसव पीड़ा से कराहती महिला से रुपये मांगने की घटना को बताया अमानवीय कृत्य, की निंदा

हेरहंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की घटना दुर्भाग्यपूर्ण ही नहीं अमानवीय भी : अनीता देवी

लातेहार : जिला परिषद उपाध्यक्ष अनीता देवी ने हेरहंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सह हेल्थ वेलनेस सेंटर में प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला के परिजनों से पैसे मांगने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण व अमानवीय बताते हुए कड़ी निंदा की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सह हेल्थ वैलनेस सेंटर में सोमवार को दो एएनएम ने एक महिला की डिलीवरी के लिए 18 हजार रुपये नगद व कान की बाली न देने पर 18 हजार रुपये की मांग की और इस बीच डिलीवरी 4 घंटे देर से कराने की घटना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण एवं अमानवीय है।

उन्होंने घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये। इस संबंध में उपाध्यक्ष द्वारा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से चर्चा की गयी। उनके द्वारा बताया गया कि घटना की जांच कर रिपोर्ट सिविल सर्जन को भेज दी गयी है। साथ ही दोनों एएनएम से स्पष्टीकरण मांगा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि सिर्फ स्पष्टीकरण मांगने से पीड़िता को न्याय नहीं मिलेगा। यह सरासर बाली लूट की घटना है जिस पर प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जाये और इस घटना में शामिल एएनएम को बर्खास्त किया जाये।

मामले में उपाध्यक्ष द्वारा सिविल सर्जन को व्यक्तिगत रूप से घटना की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस तरह की घटना हमारे सामाजिक सरोकार और मानवता पर धब्बा है। दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाना चाहिए।