Breaking :
||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान||लातेहार: बालूमाथ में फिर एक विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, पुलिस जांच में जुटी||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी

लातेहार जिला परिषद् उपाध्यक्ष ने डीएफओ से कहा- जंगली हाथियों को क्षेत्र से हटाकर बेतला ले जाने की हो व्यवस्था

एक सप्ताह के अंदर मुआवजा राशि का भुगतान करने का आग्रह

लातेहार : जिला परिषद उपाध्यक्ष अनीता देवी ने जिले के बालूमाथ व चंदवा क्षेत्र में जंगली हाथियों द्वारा ग्रामीणों के घरों व फसलों को नुकसान पहुंचाने के संबंध में जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस मौके पर उन्होंने बताया कि बालूमाथ व चंदवा के विभिन्न गांव धाधू, चितरपुर, बलबल, नावाडीह पंचायत चकला के तिलैया, महुआटांड़, अरनिया टांड़, पडुवा, हरैया, तुरीसोत, अंबवाटांड़ आदि गांवों में विगत दो सप्ताह से जंगली हाथियों का एक बड़ा झुंड मौजूद है। जो आये दिन शाम व रात ग्रामीणों की फसलों व घरों को नुकसान पहुंचा रहा है। इससे जहां एक ओर ग्रामीणों में काफी रोष व भय है, वहीं दूसरी ओर वन विभाग के कर्मियों की उदासीनता साफ दिखायी दे रही है।

KIDZEE Ad

उन्होंने बताया कि पूर्व में भी मैंने उपायुक्त को पत्र लिखकर अनुरोध किया था कि हाथियों को बालूमाथ, चंदवा क्षेत्र से हटाकर उनके अपने निवास स्थान बेतला ले जाने की व्यवस्था की जाये। यदि यह स्थानीय रूप से संभव नहीं है, तो विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें :- Special Report: लातेहार में तेंदुए और हाथी के आतंक से सहमे ग्रामीण, लगातार हो रही जानमाल की हानि, डीएफओ से ख़ास बातचीत

जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी से बातचीत के दौरान उपाध्यक्ष द्वारा आग्रह किया गया कि हाथियों द्वारा किये गये नुकसान का आंकलन कर एक सप्ताह के अंदर मुआवजा राशि का भुगतान किया जाये।

उपाध्यक्ष द्वारा जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी से इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देने का अनुरोध किया गया।