Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
पलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: हेरहंज में कत्था बनाने की भट्ठी का उद्भेदन, कत्था बनाने में प्रयुक्त सामान जब्त

नितीश कुमार यादव/हेरहंज

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड के सलैया पंचायत अंतर्गत होंजर गांव के जंगल में अवैध रूप से खैर की लकड़ी से कत्था बनाने की भट्टी का उद्भेदन वन विभाग की टीम ने किया है। मौके से छह डेग, एक कुदाल और कत्था बनाने की अन्य सामग्री जब्त की गयी है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

प्रभारी वन क्षेत्र पदाधिकारी बालूमाथ नंदकुमार मेहता ने बताया कि डीएफओ विश्वास देश पांडे को मिली गुप्त सूचना के आधार पर लातेहार, मनिका, बालूमाथ, बरियातू और हेरहंज की टीम ने अभियान चलाया। अभियान के दौरान सलैया पंचायत के होंजर गांव के वन क्षेत्र में अवैध रूप से खैर की लकड़ी से कत्था बनाने की भट्टी का उद्भेदन किया गया। मौके से कत्था बनाने में प्रयुक्त सामग्री जब्त कर ली गयी है। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि यह काम किसके द्वारा किया जा रहा था। हालांकि वन विभाग की टीम पूरे मामले की जांच कर रही है। जल्द ही इस कारोबार से जुड़े लोगों पर विभागीय कार्रवाई की जायेगी।

बता दें कि 1985 से 1995 तक पूरे पलामू प्रमंडल में खैर की अवैध लकड़ी से कत्था बनाने का काम जोरों पर था। खैर की लकड़ी से बने कत्थे को स्थानीय स्तर पर 150-200 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से बेची जा रही थी। जबकि बनारस, आगरा, कानपुर, लखनऊ, कोलकाता समेत अन्य शहरों में यह 250-300 रुपये प्रति किलो की दर से बेचा जाता था। इसे भी दो प्रकार से बनाया जाता था। सिंगल फिल्टर और डबल फिल्टर। आज वही काम 27 साल बाद 28वें साल में नए रूप देखने को मिला है।

Latehar Herhanj Latest News