Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
पलामू प्रमंडलबरवाडीहलातेहार

बालू घाट शुरू कराने को लेकर जिप सदस्य ने खनन सचिव व उपायुक्त को लिखा पत्र

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड क्षेत्र में लगातार बालू की कमी के कारण प्रधानमंत्री आवास समेत कई सरकारी योजनाएं ठप पड़ी है। हालांकि इस महीने के बाद बालू उठाव पर लगी रोक खनन विभाग के द्वारा हटा दी जाएगी लेकिन प्रखंड क्षेत्र के बेतला और केचकी पंचायत और प्रखंड मुख्यालय के आसपास किसी भी पंचायत में बालू के उठाव को लेकर बालू घाट का आवंटन विभाग के द्वारा नहीं किया गया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस परेशानी को देखते हुए प्रखंड के पश्चिमी जिला परिषद सदस्य सन्तोषी शेखर ने पूर्व की जिला परिषद की बैठक में मामला उठाने साथ साथ एक बार फिर से राज्य के खनन सचिव और जिले के उपायुक्त को पत्र लिखकर प्रखंड के अंतर्गत खुरा, छेचा औऱ मंगरा पंचायत के बालू घाट को निबंधित करते हुए जल से जल विभाग के माध्यम से पंचायत स्तर बालू उठाव की प्रक्रिया शुरू कराने की मांग की है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

पत्र के माध्यम से उन्होंने यह भी कहा जिले के बैठक में मामला उठाए लगभग 2 माह बीत गए पर अब तक खनन विभाग के द्वारा कोई प्रक्रिया नहीं शुरू की गई जो काफी दुखद है। बालू के अभाव में विकास कार्य योजनाएं प्रभावित होने के साथ-साथ निजी कार्य में भी लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है साथ ही साथ इस व्यवसाय से जुड़े लोगों को भी काफी आर्थिक तंगी से जूझना पड़ रहा है।