Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

समस्या का समाधान नहीं हुआ तो 31 जुलाई से फुलबसिया, आरा, चमातू कोयला खदान क्षेत्र के रैयत करेंगे आंदोलन

रामकुमार/लातेहार

आरा, चमातु, फुलबसिया के दर्जनों ग्रामीणों ने मुखिया के नेतृत्व में उपायुक्त को दिया आवेदन

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड के फुलबसिया, आरा, चमातू के दर्जनों भू-रैयतों ने लातेहार उपायुक्त को अपनी 6 सूत्री मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा है।

भूमि रैयतों का कहना है कि सीसीएल के मगध संघमित्रा द्वारा संचालित कोयला खदान क्षेत्र के रैयतों की बंदोबस्त भूमि पर विस्थापन नीति के तहत सीसीएल क्षेत्र में विकास की सुविधा दिए बगैर जबरन जमीन पर खनन कर रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कहा कि यह जमीन हमारी रोजी-रोटी का जरिया है, अगर सीसीएल हमें बंदोबस्त भूमि के लिए नौकरी व मुआवजा नहीं देती है तो 31 जुलाई से हम रैयत हड़ताल करेंगे और सीसीएल का काम बंद कर देंगे। जिसकी पूरी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी। आंदोलन के दौरान परिवहन सड़क, खनन और सीसीएल के किसी भी अन्य प्रकार के कार्य की अनुमति नहीं दी जाएगी।

आवेदन की कॉपी कई वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई है। इस परियोजना क्षेत्र में पीने का शुद्ध पानी नहीं है, अच्छा स्कूल नहीं है, चिकित्सा व्यवस्था नहीं है, यहां के लोगों को केवल धूल के कण मिल रहे हैं।

ज्ञापन दें आये दर्जनों विस्थापित रैयतों में रामनंदन साव, रवि प्रकाश, बालदेव साव, संदीप राम, बरतु गंझू, राम प्रवेश साव, रगबीर साव, ठुपा भगत, राजेन्द्र राम, खुसियाल साव, दिलेश्वर साव, मुकेश साव, रघुनंदन साव का का नाम शामिल है।