Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: होमगार्ड्स ने कंपनी कमांडर पर लगाया अवैध वसूली का आरोप, प्रदर्शन

लातेहार : होमगार्ड्स ने कंपनी कमांडर प्रकाश रंजन पर ड्यूटी के नाम पर अवैध वसूली करने और राशि नहीं देने पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। गुरुवार को होमगार्ड्स ने उपायुक्त भोर सिंह यादव को ज्ञापन सौंपा और कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया।

गृह रक्षा वाहिनी के प्रदेश महासचिव राजीव कुमार तिवारी ने आरोप लगाया कि कंपनी कमांडर प्रकाश ड्यूटी देने के नाम पर प्रत्येक जवान से छह हजार रुपये की अवैध वसूली करते हैं। कंपनी कमांडर का कहना है कि ड्यूटी लेनी है तो किडनी बेचकर भी पैसे देने पड़ेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ज्ञापन में होमगार्ड्स ने कहा है कि पहले ऑनलाइन एचआरएमएस कंपनी कमांडर प्रकाश रंजन द्वारा किया जाता था और सभी होमगार्डों को ई-मेल आईडी जारी की गयी थी। इस ऑनलाइन एचआरएमएस में कांस्टेबल का नंबर डालकर ही चेक किया जा सकता है। लेकिन अब एचआरएमएच का फार्म नये सिरे से सारा डाटा हटाकर भरा जा रहा है। जबकि एचआरएमएस का फॉर्म एक ही बार में पूरे झारखंड में भर दिया गया है।

ज्ञापन में कहा गया है कि जिनके कर्मचारी पहचान पत्र जारी है, उन्हें छोड़कर बाकी होमगार्ड को एचआरएमएच फार्म भरने को कहा गया है। इस संबंध में कुछ पूछने पर कंपनी कमांडर अभद्र व्यवहार करते हैं। होमगार्डों ने बताया कि कंपनी कमांडर जब भी बात करता है तो सभी होमगार्डों के मोबाइल बाहर ही रख दिये जाते हैं। दुमका में पदस्थापन के दौरान कंपनी कमांडर के खिलाफ एसटी-एसी मामले में प्राथमिकी भी दर्ज हो चुकी है और उन्हें रांची में ब्लैक लिस्ट भी कर दिया गया था।