Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

धर्म छुपाकर युवक ने हिंदू महिला से कर ली शादी, तीन बच्चे होने के बाद छोड़ा, डीसी से न्याय की गुहार

गढ़वा : एक मुस्लिम युवक ने अपना धर्म छुपाकर एक हिंदू महिला से शादी कर ली। युवक ने तीन बच्चे होने के बाद महिला को छोड़ दिया है। पीड़ित महिला सोमवार को डीसी रमेश घोलप से न्याय की गुहार लगाने कलेक्ट्रेट पहुंची थी।

इससे पहले भी वह महिला थाने और श्रीबंशीधर नगर स्थित पुलिस अधीक्षक से गुहार लगा चुकी हैं। पीड़ित महिला उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के बेलाडी गांव की रहने वाली है। वहीं, युवक गढ़वा जिले के धुरकी प्रखंड के कुम्बा गांव का रहने वाला है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पीड़िता ने डीसी को बताया कि युवक का असली नाम शहजाद अंसारी है. 9 साल पहले युवक ने अपना नाम रवींद्र बताया था। तब वह दिल्ली के एक क्रशर प्लांट में मजदूरी का काम करता था। उस दौरान वहां रहने वाले मेरे रिश्तेदार भी उसी क्रशर प्लांट में काम करते थे। युवक ने मोबाइल नंबर लेकर परिजन से बात करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे बातचीत शुरू हुई। फिर नजदीकियां बढ़ीं।

दिल्ली में रहने वाले एक रिश्तेदार से मिलने के क्रम में मुलाक़ात भी होती थी। करीब छह महीने बाद उसकी शादी मंदिर में हुई। शादी के दो दिन बाद सच्चाई का पता चला। इसके बाद वह मुझे अपने गांव ले आए। लेकिन कुछ दिन वहां रहने के बाद वह अपने घर लौट आई। शहजाद भी उसके साथ अपने मायके में अलग किराए के मकान में रहने लगा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

वह वहां करीब आठ साल तक रहे। वहीं क्रशर प्लांट बंद होने के बाद वह अपने गांव कुम्बा लौट आए। यहां लौटने के बाद उन्होंने मेंटेनेंस के लिए पैसे देना बंद कर दिया। वहीं जब वह शहजाद के घर पहुंची तो मारपीट करने लगी। इसकी शिकायत श्रीबंशीगर नगर महिला थाने में की गई थी। तब शहजाद रखरखाव के लिए पैसे देने को तैयार हो गया। उसके बाद अपने गांव लौटते ही शहजाद ने पैसे देने से इनकार कर दिया। इसके अलावा उन्होंने साथ देने से भी इनकार कर दिया। उन्होंने अप्रैल माह में एसपी से भी शिकायत की थी। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। फिलहाल पीड़िता गढ़वा रेलवे स्टेशन पर रहकर न्याय के लिए भटक रही है।