Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

लातेहार: विद्यालयों में रंग-रोगन के नाम पर बरती जा रही भारी अनियमितता, विभाग मौन

रामनिवास पाठक/बरवाडीह

मरम्मत कार्य के बाद ही विद्यालयों में किया जाना है रंग-रोगन : बीईईओ

लातेहार : झारखंड सरकार ने विद्यालयों को आकर्षक और सुंदर बनाने के लिए शिक्षा विभाग को लाखों रुपये आवंटित किये हैं। विद्यालयों में मानक के अनुरूप मरम्मत कराये बिना एवं नियम-कानून को ताक पर रखकर रंग रोगन कराकर खानापूर्ति की जा रही है। इस कार्य से जुड़े लोग सरकारी राशि का बंदरबांट करने में लगे हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

लातेहार जिले के बरवाडीह प्रखंड में रंग-रोगन के नाम पर सरकारी विद्यालयों में इन दिनों भारी अनियमितता बरती जा रही है। विद्यालय भवनों की मरम्मत के बिना आनन-फानन में रंग रोगन किया जा रहा है। जिससे शिक्षा विभाग के वरीय अधिकारियों पर भी यह सवाल उठता है कि क्या स्कूल को मानक के अनुरूप सुंदर व आकर्षक बनाने की जिम्मेदारी उनकी नहीं है।

बता दें कि बरवाडीह प्रखंड में कुल 126 विद्यालय हैं, लेकिन रंग-रोगन के नाम पर कितना भ्रष्टाचार हो रहा है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है।

क्या कहते हैं बरवाडीह प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी

इस संबंध में बरवाडीह प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी नागेंद्र सिंह से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि बरवाडीह प्रखंड में कुल 126 विद्यालय हैं, सभी को आकर्षक बनाने के लिये रंग रोगन का कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि जो विद्यालय भवन जर्जर हो चुके हैं, उनकी मरम्मत कर रंग रोगन किया जाना है। जबकि रंग-रोगन का कार्य एशियन पेंट से किया जाना है, लेकिन स्कूल के शिक्षकों ने मनमाने तरीके से स्कूल भवन को अलग-अलग रंग से रंग दिया है। ऐसे विद्यालय के शिक्षकों, जिन्होंने मानक व नियम के अनुसार कार्य नहीं किया है, उनकी जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जायेगी।

भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा के जिला संयोजक ने कहा

इस संबंध में भ्रष्टाचार निरोधक मोर्चा के लातेहार जिला संयोजक ने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालयों को सुंदर व आकर्षक बनाने के नाम पर विभाग की लापरवाही साफ दिखायी दे रही है। मानक व नियम-कायदों को ताक पर रखकर स्कूल भवनों को अलग-अलग रंगों से रंगा गया है। ऐसा प्रतीत होता है कि इस कार्य में लगे शिक्षक व विभाग के कर्मी सरकारी राशि का बंदरबांट करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि इसकी लिखित शिकायत लातेहार जिला उपायुक्त भोर सिंह यादव को पत्र के माध्यम से की जायेगी, ताकि विद्यालय भवन को मानक के अनुरूप सुंदर एवं सुसज्जित बनाया जा सके।