Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Saturday, March 2, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: सेंट जेवियर्स स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन, बिना नोटिस हटाये जाने से नाराज थे कर्मचारी

लातेहार : शहर के पहाड़पुरी इलाके में स्थित सेंट जेवियर्स एकेडमी स्कूल में बिना सूचना के काम से निकाले जाने से नाराज कर्मचारियों ने ताला लगा दिया। कर्मचारी संघ के तत्वावधान में स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान स्कूल के बाहर अफरातफरी का माहौल हो गया। छात्र गेट पर ही खड़े रहे। माता-पिता भी परेशान रहे।

इधर, स्कूल में तालाबंदी की सूचना पर एसडीएम शेखर कुमार, बीडीओ मेघनाथ उरांव व पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी चंद्रशेखर चौधरी स्कूल पहुंचे। उन्होंने स्कूल के बाहर प्रदर्शन कर रहे स्टाफ और स्कूल प्रबंधन से बात की। एसडीएम कुमार ने मामले की जांच के लिए जिला स्तरीय जांच कमेटी गठित करने की बात कही। इस आश्वासन के बाद कर्मचारियों ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आक्रोशित कर्मचारियों ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें यह कहकर काम से हटा दिया गया था कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद उन्हें स्कूल में वापस रखा जायेगा। लेकिन जब लॉकडाउन के बाद स्कूल खुला और उन्होंने काम पर लौटने को कहा तो स्कूल प्रबंधन बार-बार टालमटोल करता रहा। बाद में स्कूल प्रबंधन ने उनकी जगह अन्य कर्मचारियों को रख लिया।

कर्मचारियों ने आगे बताया कि वे पिछले 12-13 साल से इस स्कूल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। स्कूल प्रबंधन ने बिना सूचना के उन्हें काम से हटाकर मनमानी की है। कर्मचारियों ने लॉकडाउन के बाद से मानदेय भुगतान, प्रशिक्षित शिक्षकों के लिए स्कूल तक परिवहन की व्यवस्था, छात्रावास की व्यवस्था, स्कूल प्रबंधन समिति की मनमानी रोकने और नयी प्रबंधन समिति के चुनाव की मांग की है।