Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Friday, June 21, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: सेंट जेवियर्स स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन, बिना नोटिस हटाये जाने से नाराज थे कर्मचारी

लातेहार : शहर के पहाड़पुरी इलाके में स्थित सेंट जेवियर्स एकेडमी स्कूल में बिना सूचना के काम से निकाले जाने से नाराज कर्मचारियों ने ताला लगा दिया। कर्मचारी संघ के तत्वावधान में स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान स्कूल के बाहर अफरातफरी का माहौल हो गया। छात्र गेट पर ही खड़े रहे। माता-पिता भी परेशान रहे।

इधर, स्कूल में तालाबंदी की सूचना पर एसडीएम शेखर कुमार, बीडीओ मेघनाथ उरांव व पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी चंद्रशेखर चौधरी स्कूल पहुंचे। उन्होंने स्कूल के बाहर प्रदर्शन कर रहे स्टाफ और स्कूल प्रबंधन से बात की। एसडीएम कुमार ने मामले की जांच के लिए जिला स्तरीय जांच कमेटी गठित करने की बात कही। इस आश्वासन के बाद कर्मचारियों ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आक्रोशित कर्मचारियों ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें यह कहकर काम से हटा दिया गया था कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद उन्हें स्कूल में वापस रखा जायेगा। लेकिन जब लॉकडाउन के बाद स्कूल खुला और उन्होंने काम पर लौटने को कहा तो स्कूल प्रबंधन बार-बार टालमटोल करता रहा। बाद में स्कूल प्रबंधन ने उनकी जगह अन्य कर्मचारियों को रख लिया।

कर्मचारियों ने आगे बताया कि वे पिछले 12-13 साल से इस स्कूल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। स्कूल प्रबंधन ने बिना सूचना के उन्हें काम से हटाकर मनमानी की है। कर्मचारियों ने लॉकडाउन के बाद से मानदेय भुगतान, प्रशिक्षित शिक्षकों के लिए स्कूल तक परिवहन की व्यवस्था, छात्रावास की व्यवस्था, स्कूल प्रबंधन समिति की मनमानी रोकने और नयी प्रबंधन समिति के चुनाव की मांग की है।