Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Saturday, April 20, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: तुबेद कोल मांइस के विस्थापित ग्रामीणों ने जागरूकता सम्मेलन में जताया कंपनी का विरोध, रखी 33 सूत्री मांग

बीरेंद्र प्रसाद/लातेहार

लातेहार : जन मजदूर परिवार संघ के बैनर तले बुधवार को सदर थाना क्षेत्र के नेवाड़ी पंचायत में समशेर आलम की अध्यक्षता में जागरूकता गोष्ठी का आयोजन किया गया। सम्मेलन में मुख्य रूप से छह गांवों के लोग उपस्थित थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ग्रामीणों ने बताया कि डीवीसी तुबेद कोल माइंस के अधिकारियों द्वारा प्रभावित एवं विस्थापित ग्रामीणों के साथ धोखा किया गया है। ग्रामीण रवि पासवान, अमीर हमजा, बाबूलाल उरांव ने बताया कि डीवीसी कंपनी बाहरी लोगों को रोजगार दे रही है। जबकि विस्थापित ग्रामीणों को नौकरी, मुआवजा व कई लाभ देने का आश्वासन दिया गया। लेकिन आज गांव के लोग पलायन कर रहे हैं। ग्रामीणों की मांगों को पूरा करने के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाया जा रहा है।

ग्रामीणों ने कहा कि अगर छह दिनों के भीतर तुबेद कोल माइंस के अधिकारियों ने उनकी मांगों को पूरा नहीं किया तो वे संवैधानिक तरीके से कंपनी के खिलाफ आंदोलन करने को मजबूर होंगे। साथ ही ग्रामीणों ने कंपनी से क्षेत्र का बुनियादी विकास अविलंब करने को कहा, झारखंड सरकार की योजना नीति के अनुसार परियोजना के स्थानीय लोगों को 75% रोजगार दिया जाना चाहिए।

मुफ्त बिजली, पानी, इलाज के लिए अस्पताल, एंबुलेंस, स्कूल, गरीबों को पेंशन, खेल स्टेडियम, स्थानीय लोगों को रोजगार, रैयतों को जमीन का मुआवजा, जनता को जलाऊ लकड़ी के लिए मुफ्त कोयला, विस्थापित ग्रामीणों को पुनर्वास लाभ आदि 33 सूत्री मांग की है।

मांगें पूरी नहीं होने पर विस्थापितों ने जन मजदूर परिवार संघ के बैनर तले तुवेद डीवीसी कॉल माइनिंग कंपनी से अपना हक लेने के लिए एकजुट होकर विरोध किया। सम्मेलन स्थल से विस्थापित रैयत, हाथों में तिरंगा लेकर संघ कार्यालय की ओर कूच कर रहे सैकड़ों महिला-पुरुष, हमारी मांगों को ऐसे पूरा करें, डीवीसी कंपनी होश में आओ, डीवीसी कंपनी वापस जाओ, महात्मा गांधी जिंदाबाद, भगत सिंह जिंदाबाद आदि कई नारे लगाते हुए जागरूकता रैली निकाली।

इस सम्मलेन में साजन कुमार, मोहम्मद अफाक, मोहम्मद मंजर हुसैन, अख्तर हुसैन, मुखिया रवि पासवान, आमिर हमजा, बाबूलाल उरांव, गोल्डन कुमार, डॉ. अरुण कुमार, खलील अंसारी, मोहम्मद शमसेर आलम, अमरेश उरांव, रेशमा बानो, समिति के कार्यकारी सदस्य मासूम सैफ समेत हजारों लोग शामिल हुए।

लातेहार तुबेद कोल मांइस