Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी
Tuesday, April 16, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

बेतला नेशनल पार्क में जंगली हाथी के बच्चे को देखने उमड़ी पर्यटकों की भीड़

अख्तर/बेतला

दुबाई से आये पर्यटक ने किया पूरे परिवार के साथ हाथी के बच्चे व बेतला का दीदार

लातेहार : बेतला नेशनल पार्क में हर दिन जंगली हाथी के बच्चे को देखने के लिए सैलानियों की भीड़ लगी रहती है। वही पर्यटक जो आज दुबई से आए थे, उन्होंने बेतला राष्ट्रीय उद्यान की पूरे परिवार सहित दीदार किया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जंगली हाथी के बच्चे को देखकर प्रशंसा करते हुए पर्यटक ने कहा कि उन्होंने बेतला नेशनल पार्क के कई नाम सूना था, लेकिन आज बेतला पहुंचकर वास्तव में बहुत खुशी मासूस कर रहा हूं। साथ ही जंगली हाथी के बच्चे को देखने का भी मौका मिला। यह केवल अफ़सोस की बात है कि हम पार्क में जाने से वंचित हो गए हैं। आने वाले दिनों में निश्चित रूप से पार्क का भी दौरा करेंगे।

वही वनपाल उमेश दुबे जंगली हाथी के बच्चे की देखभाल के लिए वन रक्षक के साथ ट्रैकर गार्ड भी लगे हुए हैं। जो इलाज के साथ-साथ खिलाने-पिलाने में लगे हुए हैं। उन्हीं की देखरेख में हाथी के बच्चे का इलाज किया जा रहा है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

वनपाल उमेश दुबे ने कहा कि अभी सिर्फ दूध दिया जा रहा है, जब डॉक्टर खाना देने की सलाह देंगे, तभी अनाज खिलाया जाएगा, अभी डॉक्टर ने सिर्फ दूध देने की बात कही है, इसलिए अभी दूध ही पिलाया जा रहा है।