Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

चचेरे भाई पर फर्जी तरीके से जमीन मोटेशन कराने का आरोप, प्रशासन से जांच की मांग

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के सरयू प्रखंड अंतर्गत पतरातू गांव निवासी गुलामनबी ने चचेरे भाइयो पर फर्जी तरीके से कागज़ बनवाकर जमीन मोटेशन कराने का आरोप लगाया है।

इस संबंध में गुलाम नबी ने बताया कि मौजा सोनवार खाता 37 प्लाट 21 रकबा 30 डिसमिल जिसे मेरे चाचा हकीमुद्दीन अंसारी के द्वारा अपने बेटे तौहीद काजमी, असगर अली, शमीम आलम के नाम पर फर्जी इश्तेहार और सहमति पत्र तैयार कर केवाला और मोटेशन करवा लिया है।

उन्होंने बताया कि CI अलीमुद्दीन की भी इस फर्जीवाड़ा में काफी अहम भूमिका है। आगे बताया की कर्मचारी को इतनी समझ होनी चाहिए कि जमीन एक बटा तीन होना चाहिए। बावजूद गलत तरीके से इश्तेहार निकालकर जमीन का मोटेशन कर दिया गया है और अब जांच में भी कोताही बरती जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गुलाम नबी ने कहा कर्मचारी अलीमुद्दीन इस मामले पर आगे कुछ भी कार्रवाई करने से भी इंकार करते हैं। गुलाम नबी ने CI अलीमुद्दीन पर ख़ुद के साथ ग़लत बर्ताव करने का भी आरोप लगाया है। गुलाम नबी ने प्रशासन से इस पूरे मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कारवाई करते हुए न्याय दिलाने की गुहार लगायी है।

मामले की जानकारी देते दूसरे पक्ष का तौहीद काज़मी

इधर, इस मामले को लेकर दूसरे पक्ष के तौहीद काज़मी ने बताया कि इस मामले में फर्जीवाड़ा का कोई मामला नही है। बल्कि ख़ुद गुलामनबी के पिता ने ही सहमति पत्र में हस्ताक्षर किए हैं। उसके बाद ही उक्त जमीन का मोटेशन हुआ है। आगे कहा उक्त जमीन का काफी साल पहले ही बटवारा हो चुका है। तौहीद ने बंटवारे का कागज भी ख़ुद के पास होने का दावा किया है। उन्होंने कहा गुलाम नबी के द्वारा बेवजह परेशान और बदनाम किया जा रहा है।

बहरहाल इससे पहले की यह मामला और तूल पकड़ता जाए, प्रशासन को इसकी सुध लेते हुए जांच कर मामले का निष्पादन करा देना चाहिए।