Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
गारूपलामू प्रमंडललातेहार

चचेरे भाई पर फर्जी तरीके से जमीन मोटेशन कराने का आरोप, प्रशासन से जांच की मांग

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के सरयू प्रखंड अंतर्गत पतरातू गांव निवासी गुलामनबी ने चचेरे भाइयो पर फर्जी तरीके से कागज़ बनवाकर जमीन मोटेशन कराने का आरोप लगाया है।

इस संबंध में गुलाम नबी ने बताया कि मौजा सोनवार खाता 37 प्लाट 21 रकबा 30 डिसमिल जिसे मेरे चाचा हकीमुद्दीन अंसारी के द्वारा अपने बेटे तौहीद काजमी, असगर अली, शमीम आलम के नाम पर फर्जी इश्तेहार और सहमति पत्र तैयार कर केवाला और मोटेशन करवा लिया है।

उन्होंने बताया कि CI अलीमुद्दीन की भी इस फर्जीवाड़ा में काफी अहम भूमिका है। आगे बताया की कर्मचारी को इतनी समझ होनी चाहिए कि जमीन एक बटा तीन होना चाहिए। बावजूद गलत तरीके से इश्तेहार निकालकर जमीन का मोटेशन कर दिया गया है और अब जांच में भी कोताही बरती जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गुलाम नबी ने कहा कर्मचारी अलीमुद्दीन इस मामले पर आगे कुछ भी कार्रवाई करने से भी इंकार करते हैं। गुलाम नबी ने CI अलीमुद्दीन पर ख़ुद के साथ ग़लत बर्ताव करने का भी आरोप लगाया है। गुलाम नबी ने प्रशासन से इस पूरे मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कारवाई करते हुए न्याय दिलाने की गुहार लगायी है।

मामले की जानकारी देते दूसरे पक्ष का तौहीद काज़मी

इधर, इस मामले को लेकर दूसरे पक्ष के तौहीद काज़मी ने बताया कि इस मामले में फर्जीवाड़ा का कोई मामला नही है। बल्कि ख़ुद गुलामनबी के पिता ने ही सहमति पत्र में हस्ताक्षर किए हैं। उसके बाद ही उक्त जमीन का मोटेशन हुआ है। आगे कहा उक्त जमीन का काफी साल पहले ही बटवारा हो चुका है। तौहीद ने बंटवारे का कागज भी ख़ुद के पास होने का दावा किया है। उन्होंने कहा गुलाम नबी के द्वारा बेवजह परेशान और बदनाम किया जा रहा है।

बहरहाल इससे पहले की यह मामला और तूल पकड़ता जाए, प्रशासन को इसकी सुध लेते हुए जांच कर मामले का निष्पादन करा देना चाहिए।