Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: सतबरवा सर्वोदय प्लस टू उच्च विद्यालय में सतत जांच परीक्षा का आयोजन

प्रेम पाठक/सतबरवा

पलामू : सतबरवा सर्वोदय प्लस टू उच्च विद्यालय में कक्षा 11वीं की विज्ञान संकाय की परीक्षा में सम्मिलित हो चुके एवं 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए मई माह की मासिक जांच परीक्षा का आयोजन किया गया। यह आयोजन स्कूल के पीजीटी (भौतिकी) विज्ञान शिक्षक अभिषेक कुमार तिवारी ने किया। परीक्षा पूरी तरह से बहुविकल्पीय और ओएमआर शीट आधारित थी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

असेसमेंट की खासियत यह थी कि परीक्षा के साथ-साथ रिजल्ट भी आज ही के दिन छात्रों के बीच प्रकाशित कर दिया गया। जिसमें रिंकी कुमारी ने प्रथम, पलवी कुमारी ने द्वितीय तथा अभिषेक कुमार मेहता ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इन तीनों को ग्रीष्मावकाश के बाद पुरस्कार वितरण किया जायेगा। निरंतर और व्यापक मूल्यांकन का उद्देश्य छात्रों की सीखने की क्षमता, उनकी व्यक्तिगत विशेषताओं को बढ़ाना, परियोजना कार्य में रुचि बढ़ाना, किसी समस्या को हल करने के विभिन्न तरीकों के बारे में जानना, शैक्षिक उद्देश्यों को पूरा करना और नए विचारों का परिचय देना और दृष्टिकोण, साथ ही सरल और उपयोग में आसान भाषा का उपयोग करने व शिक्षण प्रदान करने के विभिन्न कौशलों को बढ़ावा देना है।

परीक्षा के दौरान व्यापक मूल्यांकन के विभिन्न आयामों जैसे विश्वसनीयता, वस्तुनिष्ठता, व्यावहारिकता, प्रश्नों की वैधता का ध्यान रखा गया है। इस मौके पर विद्यालय की प्रभारी प्राचार्य प्रफुल्लित लकड़ा, शिक्षक सत्य प्रकाश शर्मा, दिलीप प्रसाद, अविनाश कुमार, मुकेश तिवारी, सुशील टोप्पो, रामरक्षा प्रसाद आदि ने सहयोग किया।