Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

नहाय-खाय के साथ 25 मार्च से शुरू होगा चैती छठ महापर्व

लातेहार : छठ महापर्व का त्योहार साल में दो बार मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार एक चैत्र के महीने में और दूसरा कार्तिक के महीने में बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश समेत देश के कई हिस्सों में चैती छठ पूजा मनायी जाती है। इस साल चैती छठ पूजा 25 मार्च से नहाय खाय के साथ शुरू होगी और 28 मार्च को सूर्योदय के समय सूर्य को अर्घ्य देकर समाप्त होगी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

25 मार्च – नहाय खाय

26 मार्च – खरना

27 मार्च – संध्या अर्घ्य

28 मार्च – सूर्योदय अर्घ्य

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार संतान की कामना करने वाली और परिवार के सदस्यों के अच्छे स्वास्थ्य, सुख-समृद्धि की कामना करने वाली महिलाओं के लिए यह व्रत श्रेष्ठ माना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार छठी मैया को भगवान सूर्य की बहन माना जाता है। मान्यता है कि छठ महापर्व में छठी मैया और भगवान सूर्य की पूजा करने से छठी मैया बहुत प्रसन्न होती हैं। इस व्रत के पुण्य से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

चैती छठ महापर्व 2023