Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

लातेहार: प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला से पैसे मांगने के मामले में भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात, घटना को बताया मानवता के लिए शर्मनाक

प्रदीप यादव/हेरहंज

लातेहार : हेरहंज प्रखंड मुख्यालय स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सह हेल्थ वेलनेस सेंटर में बीते सोमवार को घुर्रे निवासी की पुत्री से प्रसव के नाम पर अट्ठारह हजार रुपये की मांग की गयी। पैसे के अभाव में कान की बाली लेकर उपचार किया गया। इस मामले को लेकर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल नाथ शाहदेव आज पीड़िता के घर पहुंचे और पीड़ित परिवार से घटना की जानकारी ली।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि पूरी मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना है। जिस तरह से प्रसव पीडि़ता पांच घंटे तक तड़पती रही और एएनएम गुंजन भारती व अरुणा टोप्पो ने अवैध रूप से अठारह हजार रुपये की मांग की गयी। रुपये के एवज में पीड़िता की मां से कान की बाली उतरवाकर ले ली गयी, फिर जाकर प्रसव कराया गया। पांच घंटे की देरी के कारण उसने मृत बच्चे को जन्म दिया। यह मानवता को शर्मसार करने वाली घटना है।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से दोनों एएनएम के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि पांच घंटे की देरी कर जानबूझ कर नवजात को मार डाला गया। दोनों को प्राथमिकी दर्ज करते हुए नौकरी से बर्खास्त कर जेल भेजा जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर मेरी मांग नहीं मानी गयी तो वह सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगे। हेमंत सोरेन के शासन में जिस तरह से आदिवासियों, मूलनिवासी दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं और सरकार सोयी हुई है, सरकार को जागना चाहिए और अत्याचारों पर अंकुश लगाना चाहिए।