Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
पलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला से पैसे मांगने के मामले में भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात, घटना को बताया मानवता के लिए शर्मनाक

प्रदीप यादव/हेरहंज

लातेहार : हेरहंज प्रखंड मुख्यालय स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सह हेल्थ वेलनेस सेंटर में बीते सोमवार को घुर्रे निवासी की पुत्री से प्रसव के नाम पर अट्ठारह हजार रुपये की मांग की गयी। पैसे के अभाव में कान की बाली लेकर उपचार किया गया। इस मामले को लेकर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल नाथ शाहदेव आज पीड़िता के घर पहुंचे और पीड़ित परिवार से घटना की जानकारी ली।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि पूरी मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना है। जिस तरह से प्रसव पीडि़ता पांच घंटे तक तड़पती रही और एएनएम गुंजन भारती व अरुणा टोप्पो ने अवैध रूप से अठारह हजार रुपये की मांग की गयी। रुपये के एवज में पीड़िता की मां से कान की बाली उतरवाकर ले ली गयी, फिर जाकर प्रसव कराया गया। पांच घंटे की देरी के कारण उसने मृत बच्चे को जन्म दिया। यह मानवता को शर्मसार करने वाली घटना है।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से दोनों एएनएम के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि पांच घंटे की देरी कर जानबूझ कर नवजात को मार डाला गया। दोनों को प्राथमिकी दर्ज करते हुए नौकरी से बर्खास्त कर जेल भेजा जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर मेरी मांग नहीं मानी गयी तो वह सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगे। हेमंत सोरेन के शासन में जिस तरह से आदिवासियों, मूलनिवासी दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं और सरकार सोयी हुई है, सरकार को जागना चाहिए और अत्याचारों पर अंकुश लगाना चाहिए।