Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: ग्रामीणों के विरोध के बाद पीसीसी सड़क निर्माण पर रोक

पलामू : जिला मुख्यालय मेदिनीनगर से सटे चैनपुर प्रखंड के महुंगावा में निर्माणाधीन पीसीसी पथ निर्माण कार्य पर एनआरपी के कार्यपालक अभियंता ने रोक लगा दी है। कार्यपालक अभियंता ने बताया कि ग्रामीणों ने निर्माण कार्य पर रोक लगाने की मांग को लेकर उपायुक्त, डीपीओ व कार्यपालक अभियंता को आवेदन दिया था।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आवेदन में ग्रामीणों का आरोप है कि पीसीसी पथ का निर्माण रैयती भूमि में संवेदक द्वारा जबरन बनाया जा रहा है। साथ ही इस पीसीसी पथ से एक भी ग्रामीणों को लाभ नहीं है। संवेदक द्वारा अपने निजी लाभ के लिए पीसीसी पथ का निर्माण कराया जा रहा है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत ग्रामीण विकास सचिव से भी की थी। ग्रामीणों की शिकायत पर डीपीओ एवं कार्यपालक अभियंता द्वारा कार्य स्थल का निरीक्षण करने के बाद कहा था कि प्रथम दृष्टया में यह योजना अनुपयोगी है।

इधर, एनआरपी के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि ग्रामीणों की शिकायत पर कार्य पर तत्काल रोक लगा दिया गया है। इसके बाद योजना की उच्चस्तरीय जांच करायी जाएगी। जांच के बाद यदि यह प्रमाणित हो जाता है कि योजना गैर उपयोगी होगी तो इस मामले में संबंधित लोगों पर कार्रवाई की जाएगी।

आवेदन देकर शिकायत करने वालों में महुंगावा पंचायत की मुखिया धनवन्ती देवी, दिलीप तिवारी, विमलेश तिवारी, बीरेंद्र पांडेय, दीनानाथ तिवारी, प्रदीप चौरसिया, धु्रप शर्मा, धर्मदेव तिवारी, विक्की पांडेय, घुरन भुइयां, सुनील पांडेय, हरेंद्र पांडेय, आदित्य पांडेय, अरविंद पाण्डेय आदि शामिल हैं।