Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

लातेहार: छिपादोहर में शिक्षकों की कमी से नाराज छात्रों ने किया हंगामा

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड स्थित छिपादोहर के प्रोजेक्ट प्लस टू उच्च विद्यालय में मंगलवार को शिक्षकों की कमी से नाराज छात्रों ने हंगामा किया। इस दौरान छात्रों ने हाथों में तख्तियां लेकर जमकर नारेबाजी की। हंगामा करने के बाद आक्रोशित छात्रों ने स्कूल के मेन गेट पर ताला लगा दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आक्रोशित छात्रों ने बताया कि प्लस टू हाई स्कूल में हिंदी और संस्कृत विषय के अलावा किसी भी विषय के शिक्षक नहीं है। शिक्षक उपलब्ध नहीं होने के कारण पढ़ाई नहीं हो पा रही है। छात्रों ने आगे कहा कि ऐसे में परीक्षा में शामिल होने के बाद भी अच्छे अंक प्राप्त नहीं किये जा सकते हैं।

हालांकि हंगामा कर रहे छात्रों को शिक्षकों ने काफी समझाया। लेकिन छात्र नहीं माने और हंगामा करते रहे। काफी देर बाद शिक्षकों ने डीएसई कार्यालय से उनकी बात करायी। जिसके बाद छात्रों ने हंगामा करना बंद किया और मेन गेट का ताला खोला।

आपको बता दें कि इस विद्यालय में 20 शिक्षकों का पद सृजित किया गया है। वर्तमान में मात्र चार शिक्षक कार्यरत हैं। स्कूल में छात्रों की संख्या 700 है। स्कूल की प्रधानाध्यापिका मीरा एक्का ने बताया कि स्कूल में शिक्षकों की कमी की जानकारी वरीय अधिकारियों को दे दी गयी है।